दिल्ली में नए साल की शुरुआत नाइट कर्फ्यू के साथ, सड़कों पर मुस्तैद रही पुलिस


नई दिल्ली। देश के कई अन्य राज्यों की तर्ज पर दिल्ली में भी नए साल की शुरुआत नाइट कर्फ्यू के साथ हुई। नए साल का जश्न मनाने के चक्कर में सार्वजनिक जगहों पर भीड़ इकट्ठी होने और उसकी वजह से कोरोना संक्रमण के और फैलने की आशंका को देखते हुए दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने राजधानी में भी नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला करते हुए बुधवार देर शाम इस संबंध में आदेश जारी किया। हालांकि, आम लोगों तक यह जानकारी गुरुवार की सुबह ही पहुंच सकी। राहत की बात यह है कि नाइट कर्फ्यू केवल दो रातों के लिए लागू किया गया है। दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी की स्टेट एग्जिक्यूटिव कमिटी के चेयरपर्सन और दिल्ली के चीफ सेक्रेट्री विजय देव की तरफ से जारी किए गए इस नए आदेश के अनुसार दिल्ली में 31 दिसंबर की रात 11 बजे से 1 जनवरी की सुबह 6 बजे तक और फिर 1 जनवरी को भी रात 11 बजे से 2 जनवरी की सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू किया गया है। इस दौरान किसी भी सार्वजनिक स्थान पर 5 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी रहेगी। साथ ही सार्वजनिक जगहों पर नए साल का जश्न आयोजित करने और भीड़ जमा करने पर भी पाबंदी रहेगी। हालांकि, तमाम लाइसेंसी परिसरों पर यानी होटल, रेस्टोरेंट्स, पब और बार, क्लब व ऐसी अन्य लाइसेंसी जगहों पर लोग 11 बजे के बाद तक भी आ-जा सकेंगे। वैसे इन जगहों पर पहले से ही कुल सिटिंग कपैसिटी से आधे कस्टमर्स को ही परिसर में एंट्री दी जा सकती है। लाइसेंस के नियमों के अनुसार टाइमिंग्स का पालन करने के भी सख्त निर्देश पहले से ही दिए हुए हैं। नाइट कर्फ्यू के दौरान आम लोगों और सामान ले जा रही गाड़ियों के इंटरस्टेट मूवमेंट पर कोई पाबंदी नहीं रहेगी और लोग रात को दिल्ली-एनसीआर में मूवमेंट कर सकेंगे। ब्रिटेन से आए कोरोना के नए स्ट्रेन के कारण दिल्ली समेत देशभर में कोरोना संक्रमण के फिर से तेजी से फैलने का खतरा पैदा हो गया है। ऐसे में गृह मंत्रालय ने 28 दिसंबर को देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को एडवाइजरी जारी करते हुए कहा था कि वे अपने यहां स्थानीय स्तर पर नाइट कर्फ्यू लागू करने जैसे कदम उठा सकते हैं। उसी के बाद कई राज्यों ने बड़े शहरों, खासतौर से महानगरों में नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया। दिल्ली में भी स्थिति की समीक्षा करने के बाद यह पाया गया कि अगर सार्वजनिक जगहों पर भीड़ जमा हुई, तो संक्रमण फैलने का खतरा और बढ़ सकता है। उसी को ध्यान में रखते हुए 31 दिसंबर और 1 जनवरी की रात को नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया।
मुस्तैद रही दिल्ली पुलिस
हालांकि, इस फैसले को लेकर कुछ होटल्स और रेस्टोरेंट संचालकों के बीच भ्रम की स्थिति भी बनी रही, वहीं जिन लोगों ने ऐसी जगहों पर अपने दोस्तों या परिजनों के साथ जाकर न्यू ईयर का जश्न मनाने का प्लान बनाया था, वो भी टेंशन में आ गए थे। इसे देखते हुए दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता और नई दिल्ली जिले के डीसीपी डॉ. ईश सिंघल ने एक बयान जारी कर स्थिति साफ करते हुए कहा कि रेस्टोरेंट्स, होटल आदि पर यह पाबंदी लागू नहीं होगी, लेकिन उन्हें अपने यहां पहले से लागू कोविड प्रोटोकॉल्स का सख्ती से पालन करना होगा और 50 पर्सेंट कपैसिटी पर ऑपरेट करना होगा। नाइट कर्फ्यू को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए दिल्ली पुलिस भी गुरुवार की रात काफी मुस्तैद रही और इंडिया गेट, कनॉट प्लेस, सिग्नेचर ब्रिज समेत सभी प्रमुख बाजारों और सार्वजनिक जगहों पर विशेष चौकसी बरती गई, जहां बड़ी संख्या में लोगों के इकट्ठा होने की संभावना थी।