जहर देकर पशुओं की लेते थे जान, फिर होटलों में मांस सप्लाई,नगरपालिका ठेकेदार सहित दो अरेस्ट


मेरठ। यूपी के मेरठ जिले में मवाना थाने की पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा किया है। पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है जो पशुओं को जहर देकर उनकी हत्या करता था। इसके बाद मरे हुए पशुओं का मांस कस्बे के होटलों और घरों में सप्लाई होता था। पुलिस ने इस मामले में नगरपालिका के ठेकेदार सहित दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। दरअसल, क्षेत्र के ततीना गांव के रहने वाले शुभम चौहान की पालतू भैंस की कुछ दिनों पहले संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। शुभम के रिपोर्ट दर्ज कराने पर पुलिस ने भैंस का पोस्टमॉर्टम कराया तो खुलासा हुआ कि भैंस को जहर देकर उसकी हत्या की गई है। इसके सिवा इसी गांव के रहने वाले डेविड नाम के शख्स की भैंस को भी जहर देकर मारा गया था। जिसके बाद से थाना पुलिस लगातार पशुओं को जहर देने वाले इस गिरोह के बदमाशों की तलाश में जुटी थी।
ठेकेदार ही निकला पशुओं का कातिल
मामले की पड़ताल में जुटी पुलिस की जांच में सामने आया कि कस्बे का रहने वाले बशीर नाम के एक शख्स के पास नगरपालिका से मरे हुए पशुओं की खाल उतारने का ठेका है। क्षेत्र में जहां भी किसी पशु की मौत होती है तो ठेकेदार बशीर या उसके आदमी बिना किसी सूचना के मौके पर पहुंच जाते हैं और पशु की लाश को अपने कब्जे में ले लेते हैं। जिन दोनों पशुओं की मौत हुई है, उनके घरों के आसपास भी बशीर और उसके कर्मचारियों को मंडराते हुए देखा गया था।
गिरफ्तारी के बाद किया सनसनीखेज खुलासा
मवाना थाने के इंस्पेक्टर प्रेमचंद शर्मा ने बताया कि पुख्ता जुटाने के बाद शनिवार को कस्बे के मोहल्ला कल्याण सिंह निवासी ठेकेदार बशीर और उसके साथी सद्दाम दर्जी को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपियों के कब्जे से सल्फास के दो पैकेट और पशुओं को खिलाने के लिए बनाई गई जहर की पुड़िया बरामद की गई। पूछताछ के दौरान बदमाशों ने बताया कि वह पशुओं को जहर देकर उनकी हत्या कर देते थे, क्योंकि मृत पशुओं के शव उठाने का ठेका उन्हीं के पास था। इसीलिए वह पशुओं की लाश को अपने कब्जे में ले लेते थे। इसके बाद मरे हुए पशुओं की खाल उतारकर चमड़ा फैक्ट्रियों में बेची जाती थी। वहीं, हड्डियों को भी फैक्ट्रियों में ठिकाने लगाया जाता था। इसी के साथ मृत पशुओं के मांस को कस्बे की मीट की दुकानों पर बेच देते थे। जहां से यह मांस पूरे कस्बे के होटलों और घरों में सप्लाई होता था। इंस्पेक्टर प्रेमचंद शर्मा के मुताबिक दोनों आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्टर की कार्रवाई की जा रही है। वहीं, इनकी अवैध संपत्ति को चिह्नित करके जल्द ही उसे भी जब्त किया जाएगा।