रंगदारी मांग करता था परेशान, व्यापारी ने दे दी हिस्ट्रीशीटर की सुपारी


  • हिस्‍ट्रीशीटर की रंगदारी से परेशान होकर व्‍यापारी ने उठाया खौफनाक कदम
  • व्‍यापारी ने हिस्‍ट्रीशीटर के दोस्‍तों को ही दे दी उसे जान से मारने की सुपारी
  • दोस्‍तों ने हिस्‍ट्रीशीटर समेत दो लोगों को मार मिर्जापुर में फेंक दिया था शव
वाराणसी। हिस्ट्रीशीटर की रंगदारी से परेशान एक व्यापारी ने पांच लाख रुपये में हिस्ट्रीशीटर के दोस्तों को ही उसकी हत्या की सुपारी दे दी। पार्टी के बहाने हिस्ट्रीशीटर शुभम केशरी और उसके साथी को दोस्तों ने गला दबाकर मार डाला। हत्या के बाद बदमाशों ने शवों को मिर्जापुर की पहाड़ियों में फेंक दिया। सबूत मिटाने के लिए बदमाशों ने हिस्ट्रीशीटर और उसके साथी के शव पर ऐसिड फेंक दिया। 15 जनवरी को मिर्जापुर के अहरौरा में दो अधजले शव के मिलने के बाद जब पुलिस ने इसकी तफ्तीश शुरू की तो दोनों युवकों के तार वाराणसी से जुड़ गए। मिर्जापुर पुलिस ने वाराणसी पुलिस को इसकी जानकारी दी तो पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी। तीन दिन में ही पुलिस ने आरोपी व्यापारी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ की तो व्यापारी सुनील निगम ने सभी राज उगल दिए। उसकी निशानदेशी पर पुलिस ने घटना में शामिल 4 अन्य लोगों को भी गिरफ्तार कर लिया।
हिस्ट्रीशीटर ने व्‍यापारी के बहनोई की हत्‍या की थी
एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि हिस्ट्रीशीटर शुभम केशरी ने वर्ष 2017 में सुनील निगम के बहनोई की हत्या कर दी थी। उसके बाद भी वह सुनील और उसके परिवार को परेशान करता था। इसके प्रतिशोध में व्यापारी ने उसके ही दोस्तों को उसे मारने की सुपारी दे दी।
2 महीने पहले बना था प्लान
हिस्ट्रीशीटर को ठिकाने लगाने का प्लान सुनील निगम ने 2 महीने पहले ही बना लिया था। इसके लिए सुनील ने उसके करीबी दोस्तों से बातचीत की थी और फिर उन्हें सुपारी दे दी। जिस दिन वारदात को अंजाम देना था, उस दिन शुभम केशरी के साथ उसका एक दोस्त रवि भी पार्टी में चला आया। इस वजह से बदमाशों को उसकी हत्या भी करनी पड़ी।