केरल के मुख्य सचिव ने सीमा शुल्क अधिकारियों के खिलाफ केंद्र को लिखा पत्र


तिरुवनंतपुरम। केंद्रीय एजेंसी के खिलाफ एक और शिकायत में केरल के मुख्य सचिव विश्वास मेहता ने सीमा शुल्क विभाग पर हाल में राज्य सरकार के अधिकारी का उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए केंद्र सरकार को पत्र लिखा है और निष्पक्ष एवं समयबद्ध तरीके से इसकी जांच कराये जाने की मांग की है। मेहता ने इस संबंध में नौ जनवरी को पत्र भेजा था। राज्य के सहायक प्रोटोकॉल अधिकारी एम एस हरिकृष्णन पांच जनवरी को कोच्चि में सीमा शुल्क विभाग के सामने पेश हुए थे। केंद्रीय एजेंसी ने सोना तस्करी के एक मामले में हरिकृष्णन को समन जारी किया था। तिरुवनंतपुरम लौटने पर सात जनवरी को हरिकृष्णन ने सीमा शुल्क अधिकारियों के सामने पेशी के बारे में मुख्य सचिव को रिपोर्ट भेजी थी। रिपोर्ट में उन्होंने सीमा शुल्क अधिकारियों पर उनसे ‘‘अनुचित व्यवहार करने, गलत तरीके से पेश आने और धमकी देने’’ का आरोप लगाया था। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने बुधवार को राज्य विधानसभा में माकपा के वी जॉय के ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर मुख्य सचिव के लिखे पत्र के बारे में जानकारी दी। पत्र में मुख्य सचिव ने दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की ताकि इस तरह की घटना फिर से नहीं हो। उन्होंने घटना के संबंध में निष्पक्ष और समय पर जांच पूरी करने की भी मांग की। विजयन ने कहा, ‘‘इस तरह के ‘‘अविवेकपूर्ण, गैरकानूनी और अनुचित व्यवहार’’ से हमारे अधिकारियों का मनोबल गिरेगा।’’ उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाएं दोबारा नहीं हों, इसके लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री विजयन ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर राज्य में मौजूद केंद्रीय एजेंसियों पर नियंत्रण लगाने का अनुरोध किया है। केरल के सोना तस्करी के मामले में केंद्रीय एजेंसियां प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) भी जांच कर रही है।