बुलंदशहर में सिपाही ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, सुसाइड नोट में महिला सिपाही को बताया जिम्मेदार


बुलंदशहर। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर की अनूपशहर कोतवाली में तैनात महिला सब-इंस्पेक्टर आरजू पंवार की आत्महत्या की गुत्थी अभी सुलझी नहीं है। मंगलवार को जनपद के थाना खुर्जा देहात कोतवाली में तैनात एक सिपाही ने भूड़ चौराहे स्थित एक होटल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सूचना मिलने पर एसएसपी, एसपी समेत अन्य आला-अधिकारी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। मौके से पुलिस को पांच पेज का एक सूइसाइड नोट भी मिला है। इसमें सिपाही ने आत्महत्या के लिए एक महिला सिपाही को जिम्मेदार ठहराया है।सूइसाइड नोट में लिखा है कि वह कायरों की नहीं बल्कि शहीदों की मौत मरना चाहता था। जानकारी के अनुसार, खुर्जा कोतवाली में तैनात सिपाही सुनील कुमार का शव भूड़ चौराहे स्थित राज होटल के कमरा नंबर 109 में लटका हुआ मिला है। सिपाही की आत्महत्या की जानकारी मिलने पर देहात कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची। उसका शव होटल के कमरे में फांसी के फंदे से लटका हुआ था। एसएसपी और एसपी सिटी ने मौके फरेंसिक टीम भी बुलाई। टीम ने मौके से सैंपल कलेक्ट किए हैं।
5 पेज का सूइसाइड नोट मिला है
वहीं, सूचना मिलने पर मृतक सिपाही सुनील के परिजन भी पहुंच गए। मौके से पांच पेज का सूइसाइड नोट मिला है। एसएसपी संतोष कुमार ने बताया कि सूइसाइड नोट में मृतक सिपाही ने अवैध संबंधों को मौत की वजह बताया है। उसमें लिखा है कि उसका अपने ही विभाग में तैनात एक महिला सिपाही से अवैध संबंध थे। वह अपने परिवार से बेहद प्यार करता है, लेकिन महिला सिपाही ने उसका जीना मुहाल कर दिया है। वह उसका मानसिक और आर्थिक शोषण कर रही थी। मानसिक रूप से परेशान चलने की वजह से उसने यह कदम उठाया है।
4 घंटे बाद ही किया गया अरेस्ट
एसएसपी संतोष कुमार ने बताया कि मृतक सिपाही के सूइसाइड नोट के आधार पर आरोपी महिला सिपाही के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। एसएसपी ने बताया कि सिपाही का मानसिक शोषण करने वाली महिला सिपाही को घटना के 4 घंटे बाद ही गिरफ्तार कर लिया है।