पुलिस चौकी के पास जिम से लौट रहे युवा व्यापारी को गोली से उड़ाया, रात से दोपहर तक चला हंगामा


मेरठ। मेरठ के सरधना इलाके में शनिवार देर रात सनसनीखेज वारदात को अंजाम देते हुए बदमाशों ने पुलिस चौकी के सामने जिम से लौट रहे युवा व्यापारी की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना के बाद गुस्साए क्षेत्रवासियों और परिजनों ने रात से सुबह तक जमकर हंगामा किया। रविवार सुबह पोस्टमॉर्टम के बाद सैकड़ों क्षेत्रवासियों ने शव को पुलिस चौकी के सामने रखकर जाम लगा दिया। घंटों चले हंगामे के दौरान खुद एसएसपी को मौके पर आना पड़ा। परिजनों को काफी समझाने के बाद पुलिस जाम खुलवा सकी। कातिलों की तलाश में पुलिस की चार टीमों को लगाया गया है। कस्बे में मौहल्ला जोगियान के रहने वाले दीपक की अशोक स्तंभ के पास जूते की शॉप थी। बताया जाता है बॉडी बिल्डिंग का शौकीन दीपक रविवार की शाम अपने दोस्त सुमित के साथ जिम गया था। वहां से लौटते समय दोनों दोस्त दौराला रोड स्थित एक होटल में चिकन खाने चले गए। रात लगभग नौ बजे दोनों युवक बाइक से घर वापस लौट रहे थे। इसी दौरान सुमित के मोबाइल पर उसके परिवार के किसी सदस्य का फोन आया। इसके बाद दीपक बाइक रोककर खड़ा हो गया और सुमित सड़क की साइड में जाकर फोन पर बात करने लगा। 
बाइक पर आए और मार दी गोली
इसी दौरान बाइक पर सवार होकर आए दो युवकों ने दीपक की कनपटी से पिस्टल सटाकर गोली दाग दी। धमाके की आवाज सुनकर सुमित ने पलट कर देखा तो जमीन पर खून से लथपथ दीपक की लाश पड़ी थी। इसी बीच बाइक सवार दोनों हमलावर घटनास्थल से फरार हो गए। मामले की जानकारी मिलने के बाद कस्बे में हड़कंप मच गया। बदहवास परिजनों के साथ सैकड़ों क्षेत्रवासियों ने चौकी से चंद कदम दूर हुई इस घटना को लेकर हंगामा शुरू कर दिया। मौके पर पहुंचे सरधना विधायक संगीत सोम ने किसी तरह परिवार के लोगों को समझाया जिसके बाद दीपक की लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया।
सुबह चौकी के सामने शव रखकर लगाया जाम
अधिकारियों के आदेश पर देर रात ही दीपक के शव का पोस्टमॉर्टम कराया गया। मगर जैसे ही युवक का शव सुबह कस्बे में पहुंचा तो एक बार फिर परिजन भड़क उठे। परिजनों के साथ सैकड़ों से क्षेत्रवासियों ने युवक की लाश को पुलिस चौकी के सामने रखकर जाम लगा दिया। परिजन डीएम और एसएसपी को मौके पर बुलाने की मांग पर अड़ गए। इस दौरान सीओ सरधना आरपी शाही भी हंगामा कर रहे लोगों को समझाने की कोशिश की। लेकिन वह अपनी मांग पर अड़े रहे। आखिरकार दोपहर करीब 12 बजे एसएसपी अजय साहनी खुद मौके पर पहुंचे। उन्होंने परिवार के लोगों को समझाते हुए घटना के जल्द से जल्द खुलासे का आश्वासन दिया। जैसे-तैसे परिजनों को समझा-बुझाकर सड़क के बीच से हटाया गया। एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि घटना के खुलासे के लिए पुलिस की चार टीमों को लगाया गया है। इस मामले में पुलिस ने कुछ संदिग्ध लोगों को हिरासत में भी लिया है। एसएसपी ने घटना के जल्द खुलासे का दावा किया।