भोपाल देश का पहला शहर, जहां ट्रांसजेंडर्स को जारी हुआ पहचान पत्र


भोपाल। देश में पहली बार भोपाल में ट्रांसजेंडर्स को पहचान पत्र जारी किए गए हैं। अब तक ट्रांसजेंडर के पास व्यक्तिगत आईडी नहीं होती थी। उनके पास आधार, वोटर कार्ड आदि दस्तावेज होते थे, लेकिन अलग से ट्रांसजेंडर की आईडी नहीं थी। देश में पहली बार भोपाल से इसकी शुरुआत हुई है।कलेक्टर अविनाश लवानिया ने शुक्रवार को दो ट्रांसजेंडर्स को यह जारी भी कर दिए है। अब भोपाल देश में पहला ऐसा जिला बन गया है, जहां ट्रांसजेंडर्स के पास उनका पहचान पत्र होगा। भोपाल जिले में 167 थर्ड जेंडर हैं जो वोटिंग लिस्ट में हैं। इनकी संख्या और ज्यादा भी हो सकती है, जिन्हें यह जारी किया गया है। उनमें संजना सिंह और जुबेर सैयद जूली शामिल हैं। वहीं पहचान पत्र बनने पर थर्ड जेंडर संजना सिंह राजपूत ने खुशी जाहिर की है। संजना का कहना है कि अभी तक हमारे समुदाय के लिए कोई भी पहचान पत्र नहीं होता था, जिसकी वजह से कई मामलों में हम लोगो को परेशानी का सामना करना पड़ता था। लेकिन अब जब सरकार ने ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से हमे पहचान पत्र दिए है तो अच्छा लग रहा है। वहीं, इस अधिकार को पाने के लिए 16 साल तक लड़ाई लड़नी पड़ी है। लेकिन अब भी समुदाय के लोगों में इसकी जागरूकता नहीं है जिसको लेकर आगामी भविष्य में हम लोग काम करेंगे।