लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल के डॉक्टर को टीका लगने के बाद धड़कन बढ़ने की समस्या, आईसीयू में भर्ती


दिल्ली ब्यूरो। सोमवार को दिल्ली में हुए टीकाकरण अभियान में कुल 26 लोगों में दुष्प्रभाव नजर आए थे। इनमें से एक रेजिडेंट डॉक्टर को सीने में दर्द की शिकायत के बाद ताहिरपुर के राजीव गांधी सुपरस्पेशलिटी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया है। जहां विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम उनका उपचार कर रही है। अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार, लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल के एक रेजिडेंट डॉक्टर को टीके लगने के कुछ घंटों बाद सीने में दर्द की शिकायत हुई थी। देर रात उन्हें राजीव गांधी अस्पताल लाया गया था। जहां जांच में पता चला कि डॉक्टर का ह्रदय सामान्य गति से नहीं धड़क रहा है। उनकी ह्रदय गति अचानक से बढ़ रही है। इसको देखते हुए उन्हें तुरंत आईसीयू में भर्ती किया गया। जहां डॉक्टरों की एक टीम उनकी जांच कर रही है। अस्पताल के एक डॉक्टर का कहना है कि दिल्ली में कोविड वैक्सीनेशन कार्यक्रम में अभी तक का यह ऐसा पहला मामला है, जहां किसी को टीके लगने के बाद ह्रदय में कुछ समस्या हुई है। हालांकि, इसमें कोई घबराने की बात नहीं है। इस प्रकार की परेशानियां कुछ मरीजों में हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि डॉक्टर की हालत फिलहाल स्थिर है। 
टीका लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों से ले रहे फीडबैक
राजीव गांधी अस्पताल प्रशासन के मुताबिक, अब तक जिन स्वास्थ्य कर्मचारियों ने टीका लगवाया है। उनकी जानकारी रखी जा रही है, उनको फोन करके उनसे टीके के बाद के अनुभवों का फीडबैक लिया जा रहा है। कर्मचारियों को बताया गया है कि अगर उन्हें टीके के स्थान पर दर्द, एलर्जी और बुखार की समस्या हो रही है तो तुरंत अस्पताल के डॉक्टरों को संपर्क करना है। इसके अलावा हर समय कोविड प्रोटोकॉल का पालन भी करना है।