पहले मोबाइल अब ड्राई फूट कंपनी बनाकर सैकड़ों से करोड़ों ठगने वाले दो गिरफ्तार


नोएडा। ड्राई फ्रूट की कंपनी बनाकर देश भर के सैकड़ों लोगों से करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले मोहित गोयल को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपित मोहित गोयल रिंगिंग बेल कंपनी का प्रबंध निदेशक था। यह वही कंपनी जिसने 251 रुपये में मोबाइल देने के नाम पर लाखों लोगों से ठगी की थी। उसके एक साथी को भी पुलिस ने कोतवाली सेक्टर-58 पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने रविवार शाम गिरोह का सरगना शामली निवासी मोहित गोयल को उसके सेक्टर-50 में मेघदूतम सोसायटी स्थित घर के पास से गिरफ्तार किया है। आरोपित के कब्जे से तीन मोबाइल फोन, दो कार, इलेक्ट्रानिक्स उत्पाद व 60 किलो ड्राई फ्रूट बरामद हुआ है। मामले में अभी 12 आरोपित फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है। पुलिस आयुक्त ने आरोपितों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को 50 हजार रुपये के इनाम की घोषणा की है। मोहित व उसके साथी वर्ष 2019 में हनी ट्रैप के मामले में दिल्ली से जेल जा चुके है। अपर पुलिस आयुक्त (कानून एवं व्यवस्था) लव कुमार ने बताया कि बताया कि आरोपित मोहित गोयल ने सेक्टर-62 के कोरेंथम टावर में दुबई ड्राई फ्रूट एंड स्पाइसेज हब नाम से एक कंपनी खोली थी। गिरफ्तार आरोपित ओमप्रकाश जांगीड निवासी जयपुर (राजस्थान) कंपनी में एमडी और मोहित गोयल कंपनी में प्रोमोटर था। यह लोग अपने साथियों के साथ मिलकर देशभर के अलग-अलग फर्मों से संपर्क कर उनसे ड्राई फ्रूट, दाल, तेल, मसाले व दूसरे दैनिक उपयोग की वस्तु को खरीदते थे। फर्म संचालकों का विश्वास जीतने के लिए उन्हें 40 फीसद राशि एडवांस के रूप में दे देते थे। वहीं 60 फीसद पैसे माल डिलीवरी के बाद देने की बात कही जाती। झांसे में आए लोग आरोपितों को ड्राई फूट की आपूर्ति कर देते, लेकिन जब पीड़ित आरोपित द्वारा दिए गए चेक का भुगतान कराने के लिए बैंक जाते तो चेक बाउंस हो जाती। पीड़ित द्वारा रुपये मांगने पर उन्हें धमकी दी जाती, साथ ही फर्जी केस भी दर्ज कराया जाता। पुलिस जांच में पता चला है कि इन लोगों ने नोएडा व गुरुग्राम में पूर्व में कंपनी बनाकर लोगों से ठगी की है। इस मामले में अलग-अलग राज्यों के जिलों में केस दर्ज है। आरोपित ठगी के ड्राई फूट को सस्ते दामों में दिल्ली, गाजियाबाद के थोक बाजार में बेच देते थे। डीसीपी नोएडा राजेश एस ने बताया कि ठगी के शिकार सेक्टर-65 निवासी रोहित मोहन ने केस दर्ज कराया कराया था। जांच के बाद 24 दिसंबर को पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था। आरोपितों मोहित गोयल के साथ सुमित यादव, मुसर्फिल लश्कर, विजय, नायरा सिंह उर्फ नील कमल, उज्जवल डे, स्वाति डे, सीए गौरव, राजीव कुमार, रुपेश कुमार ठाकुर, ओमप्रकाश जांगिड़, एवीपी नायरा व स्वाति समेत 14 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोपित ठगी के रुपयों को निजी कंपनी में लगाता था। जिसका मालिक वह खुद व उसकी पत्नी है। वीआर गेम्स नाम की इस कंपनी में आरोपित अब तक करीब 10 करोड़ रुपये लगा चुका है।