नोएडा में फिर ‘बम से हड़कंप’, रोकनी पड़ी शहर की मुख्य सड़क


नोएडा। शुक्रवार को दिन निकलते ही नोएडा शहर में एक बार फिर बम के नाम पर हड़कंप मच गया। इस बार मामला शहर के बीचोबीच थाना फेज 3 का है। शुक्रवार की सुबह सड़क पर एक बम जैसा पैकेट पड़ा था। जिसे किसी ने देखा और पुलिस को इत्तला दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर सड़क को रोका और रूट डायवर्ट किया। बम डिस्पोजल स्क्वायड को बुलाया गया। छानबीन में पता चला कि घड़ियों का पैकेट है। इसके बाद पुलिस ने राहत की सांस ली है। करीब एक घंटे तक यातायात रोक कर रूट डायवर्जन करना पड़ा। नोएडा के फेस-3 थाना क्षेत्र में शुक्रवार की सुबह करीब 9:00 बजे पुलिस को सूचना प्राप्त हुई कि छिजारसी रोड पर बीच सड़क में एक बम रखा हुआ है। सूचना मिलने के बाद पूरे नोएडा शहर में हड़कंप मच गया। सूचना प्राप्त होने पर तत्काल पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा को देखते हुए सड़क को बन्द कर दिया गया। रूट डाइवर्ट करके वाहनों को दूसरे मार्गों से निकाला गया है। जांच के दौरान पता चला कि किसी ने घड़ीनुमा पैकेट सड़क पर रखा था। यातायात को डायवर्ट करके सुरक्षा घेरा बनाते हुए बम निरोधक दस्ते ने परीक्षण किया। लेकिन पैकेट में कोई भी डेटोनेटर और विस्फोटक पदार्थ नहीं था। किसी शरारती तत्व ने इसे एक घड़ीनुमा वस्तु लगाकर बनाया था। इसे वहां से हटा दिया गया है। यातायात सामान्य कर दिया गया है। आगे की कार्रवाई की जा रही है। मौके पर पहुंचे पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने कहा कि सूचना के बाद ही मौके पर पुलिस बल, डॉग स्क्वायड, बम निरोधक दस्ते और स्पेशल कमांडो को भेजा गया है। एक घण्टे तक जांच के बाद किसी तरह का एक्सप्लोसिव समान नहीं मिला है। हालांकि, बीडीएस के टीम ने इसे डिफियूज कर दिया है और आगे के जांच के लिए अपने साथ ले गयी है।
आपको बता दें कि गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-27 स्थित कैलाश अस्पताल में बम रखने की सूचना देने वाली फोन कॉल झूठी निकली थी। गुरुवार की दोपहर किसी अज्ञात कॉलर ने अस्पताल के रिसेप्शन पर फोन करके यह जानकारी दी थी। इसके बाद आनन-फानन में पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस और बम निरोधक दस्ता मौके पर पहुंचे। डॉग स्क्वायड को भी बुलाया गया। अस्पताल में सर्च ऑपरेशन चलाया गया। एहतियात के तौर पर अस्पताल के बेसमेंट और ग्राउंड फ्लोर को खाली करवाया गया। नोएडा के डीसीपी राजेश एस ने बताया कि यह झूठी कॉल थी। डीसीपी राजेश एस ने बताया कि गुरुवार की दोपहर बाद किसी कॉलर ने कैलाश अस्पताल के रिसेप्शन पर फोन किया। उसने जानकारी दी कि अस्पताल के बेसमेंट में बम रखा हुआ है। इसके बाद अस्पताल में हड़कंप मच गया। अस्पताल प्रबंधन ने आनन-फानन में नोएडा पुलिस को जानकारी दी। मौके पर भारी फोर्स और बम डिस्पोजल स्क्वायड भेजा गया। अस्पताल के बेसमेंट और ग्राउंड फ्लोर को खाली करवाया गया। बम निरोधक दस्ता बेसमेंट में सघन तलाशी की।
पुलिस का कहना है कि सूचना गलत थी। किसी ने दहशत फैलाने या परेशान करने के लिए हॉक्स कॉल किया था। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए तसल्ली होने तक सर्च ऑपरेशन चलाया गया। इस दौरान अस्पताल का कामकाज भी प्रभावित हुआ। रूटीन और आपातकालीन सेवाओं पर असर पड़ा। पुलिस ने एहतियात बरतते हुए मौके पर फायर ब्रिगेड और तमाम दूसरे इंतजाम किए थे।