मैं जिंदगी में कुछ नहीं बन पाया, सूइसाइड नोट लिख सेल्स प्रमोटर ने होटल में लगा ली फांसी


मेरठ। कर्ज के बोझ तले दबे हापुड़ के रहने वाले एक निजी कंपनी के सेल्स प्रमोटर ने बुधवार को मेरठ के होटल में फांसी लगाकर जान दे दी। होटल के कमरे से एक सूइसाइड नोट भी बरामद हुआ। इसमें युवक ने जिंदगी में कुछ ना बन पाने पर अफसोस जाहिर करते हुए अपने परिवार के लोगों से माफी मांगी है। घटना के बाद पुलिस मामले की जांच में जुटी है। हापुड़ की श्रीनगर कॉलोनी में रहने वाले कमल दीवान की कस्बे में कपड़ों की दुकान है। कमल का 26 साल का बेटा उज्‍ज्‍वल एक कंपनी में सेल्स प्रमोटर था। मंगलवार की शाम उज्‍ज्‍वल मेरठ के गढ़ रोड पर स्थित एक होटल में पहुंचा। यहां उसने मेरठ में कोई काम बताकर कमरा नंबर 525 किराए पर लिया था।
मैनेजर मिलाता रहा फोन पर नहीं उठी कॉल
होटल के स्टाफ ने कमरे में ठहरे उज्‍ज्‍वल को मंगलवार की रात करीब 11 बजे लास्ट सर्विस दी थी। उसने अपना खाना कमरे में ही मंगाया था। बुधवार दोपहर 12 बजे चेकआउट का समय था। इस दौरान होटल का स्टाफ उज्‍ज्‍वल को जगाने के लिए कमरे में पहुंचा तो उसने अंदर से कोई जवाब नहीं दिया। इसके बाद होटल के मैनेजर ने उज्‍ज्‍वल के मोबाइल पर कई बार फोन किया पर कॉल रिसीव नहीं हुआ। घंटों तक कोई जवाब ना मिलने पर होटल के मैनेजर का माथा ठनका और उसने घटना की जानकारी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने डुप्लीकेट चाभी से कमरे का दरवाजा खोला तो पंखे से उज्‍ज्‍वल की लाश लटकी हुई थी।
बचा हुआ था खाना और भरा हुआ था पैग
पुलिस ने मफलर से लटकी उज्‍ज्‍वल की लाश को पंखे से नीचे उतारा। इसके बाद कमरे की जांच-पड़ताल की। कमरे में टेबल पर शराब का हाफ, भरा हुआ एक पैग और एक प्लेट में बचा हुआ खाना बरामद हुआ। इसी के साथ सिरहाने रखी टेबल पर रखा एश स्ट्रे सिगरेट के टुकड़ों से भरा हुआ था। जिससे साफ जाहिर था कि मौत से पहले युवक काफी टेंशन में था। वहीं पास में एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ जिसमें उज्‍ज्‍वल ने जिंदगी में कुछ ना बन पाने को लेकर अफसोस जाहिर किया था। इसी के साथ अपनी मौत के लिए खुद को जिम्मेदार बताते हुए अपने लेनदारों से कर्जे के लिए अपने मां-बाप को परेशान ना करने की बात लिखी थी।
बिना कुछ कहे दुनिया से चला गया: पिता
घटना की जानकारी मिलने के बाद उज्‍ज्‍वल के पिता कमल दीवान बदहवास हालत में होटल पहुंचे। रोते-बिलखते कमल ने बताया कि उज्‍ज्‍वल उनका इकलौता बेटा था। उन्होंने उज्‍ज्‍वल पर किसी कर्जे की जानकारी से इनकार किया। उनका कहना था कि उनका बेटा बिना किसी से कुछ कहे दुनिया से चला गया। उधर, सीओ सिविल लाइन देवेश सिंह ने बताया कि मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।