श्मशान घाट हादसे पर एनएचआरसी का यूपी सरकार को नोटिस, चार सप्ताह में मांगा जवाब


दिल्ली ब्यूरो। गाजियाबाद के मुरादनगर में श्मशान घाट की छत गिरने से 24 लोगों की मौत और कई लोगों के घायल होने के मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने यूपी सरकार को नोटिस जारी किया है। आयोग ने चार सप्ताह के अंदर इस मामले की विस्तृत रिपोर्ट तलब की है। रविवार को हुए हादसे में 24 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि कई लोग कई गंभीर रूप से घायल हुए थे। आयोग ने नोटिस में कहा कि राज्य के सभी श्मशान घाटों की स्थिति का भी जिक्र होना चाहिए। जिससे भविष्य में किसी भी अप्रिय घटनाओं से बचने के लिए ऐसी जगहों का उचित रख-रखाव सुनिश्चित हो सके। इसके अलावा आयोग ने घायलों की स्वास्थ्य स्थिति के बारे में भी पूछा है।उधर, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में कड़ा कदम उठाते हुए कहा कि घटना के नुकसान की पूरी भरपाई इंजीनियर और ठेकेदार से की जाएगी। दोषियों पर रासुका लगाई जाएगी।वहीं दूसरी तरफ मुख्य आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी को पुलिस ने सोमवार देर रात गिरफ्तार कर लिया है। गाजियाबाद एसएसपी ने ठेकेदार पर 25 हजार का इनाम घोषित किया था। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि आरोपी ठेकेदार से विस्तृत पूछताछ की जा रही है। सभी गिरफ्तार आरोपियों के खिलाफ कठोरतम धाराओं में कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। सोमवार को दिनभर 24 लोगों की मौत से गुस्साए लोगों ने मुरादनगर में छह शवों को सड़क पर रखकर दिल्ली-मेरठ हाईवे पर जाम लगा दिया। गुस्साए लोग पीड़ित परिजनों को आर्थिक मदद व आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़ गए। देर शाम कमिश्नर अनीता सी मेश्राम व आईजी प्रवीण कुमार ने 10 लाख की आर्थिक मदद, परिजन को योग्यता अनुसार नौकरी, बच्चों की मुफ्त पढ़ाई व घायलों को मुआवजे का लिखित आश्वासन दिया, जिसके बाद शाम करीब साढ़े चार बजे ग्रामीणों ने जाम खोला।