खरगोन में पेड़ से गिर रहे मरे हुए कौवे, इलाके में हड़कंप, बर्ड फ्लू की जांच के लिए भेजे गए सैंपल


  • एमपी के खरगोन में भी लगातार हो रही है कौवों की मौत
  • कौवों की मौत से है इलाके में दहशत का माहौल
  • पशु विभाग की टीम ने जांच के लिए सैंपल भेजा
  • इंदौर में बर्ड फ्लू की हो चुकी है पुष्टि
खरगोन। एमपी के खरगोन में 3 दिन से पेड़ों से मरे हुए कौवे गिर रहे हैं। अचानक कौवों की मौत से इलाकों में हड़कंप मच गया है। साथ ही लोगों ने बर्ड फ्लू की आशंका जताई है। 3 दिन के अंदर एक ही स्थान पर 20 से अधिक कौवों की मौत हुई है। पशु विभाग ने बर्ड फ्लू की जांच के लिए सैंपल कलेक्ट किए हैं। जिला मुख्यालय से करीब 40 किलोमीटर दूर कसरावद में प्राचीन जंगलेश्वर महादेव मंदिर के पहाड़ी क्षेत्र पर बरगद के पेड़ से कौवों के गिरने और उनकी मौत होने की सूचना के चलते हड़कंप मचा है। पिछले 3 दिनों से लगातार कौवे के गश खाकर पेड़ से गिरने और मरने का सिलसिला चल रहा है। इससे आसपास के रहने वाले लोगों में भय का माहौल है। ग्रामीणों ने बर्ड फ्लू की आशंका जताई है। कई ग्रामीण कौवों को बचाने के लिए पानी पिला रहे हैं और तरह-तरह के जतन भी कर रहे हैं। पशु चिकित्सा विभाग को सूचना मिलने पर जिला मुख्यालय से टीम रवाना कर दी गई है। पशु चिकित्सा विभाग का कहना है इंदौर में कौवों की मौत और बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के चलते हमने पहले से ही सर्वे और सैंपल लेने का काम शुरू कर दिया है। पशु चिकित्सक डॉ ललित पाटीदार ने कहा कि कौवों की मौत की जानकारी मिली है। ये गंभीर बात है। मृत कौवों को पोस्टमॉर्टम के लिए लेबोरेटरी भेजा है। फिलहाल बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं की जा सकती। जांच रिपोर्ट आने के बाद कुछ कहा जा सकता है। अन्य स्थानों से भी इसको लेकर जानकारी जुटाई जा रही है। मंदिर से जुड़े जितेंद्र गिरी महाराज ने बताया कि पिछले 3 दिनों से लगातार एक के बाद एक कौवे पेड़ से गिर कर मर रहे हैं। पेड़ से गिरने के बाद कुछ ही देर जीवित रहते हैं उसके बाद मौत हो रही है। अभी तक 20 से अधिक कौवों की 3 दिन में मौत हो चुकी है।