दिल्ली में प्रदूषण स्तर खतरनाक, हर रोज 148 मौते हो रही हैं : आदेश गुप्ता


नई दिल्ली ब्यूरो। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने आरोप लगाया है कि प्रदूषण को लेकर केजरीवाल सरकार की लापरवाही और नाकामी के कारण दिल्ली में रोज 148 लोगों की मौते हो रही हैं और वायु में पीएम 2.5 के बढ़ते स्तर का असर अब गर्भवती महिलाओं के साथ-साथ आने वाली पीढ़ी पर भी पड़ने लगा है। उन्होंने दिल्ली में बढ़ते वायु एवं जल प्रदूषण पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए केजरीवाल सरकार से प्रदूषण के कारणों को समझाने और बचाव के लिए एक उच्चस्तरीय समिति बनाने की मांग की है।  आदेश गुप्ता ने आज पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि केजरीवाल सरकार ने आई.आई.टी. कानपुर द्वारा दिल्ली प्रदूषण पर भेजी गई रिपोर्ट पर आजतक कोई संज्ञान नहीं लिया जिसके कारण स्थिति और भी भयावह हो रही है। अगर दिल्ली सरकार यह काम दिल्ली के भारतीय प्रौद्योगिक संस्थान (आई.आई.टी. दिल्ली) को सौंप दें तो शायद स्थिति बेहतर हो जाए। इस अवसर पर प्रदेश मीडिया प्रमुख नवीन कुमार भी उपस्थित थे। 
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने दक्षीण-पूर्व एशिया ग्रीनपीस नामक स्वयंसेवी संस्था की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में गत वर्ष 54,000 लोगों की प्रदूषण के कारण मौत हुई है यानि प्रतिदिन 148 मौते। इतनी मौतों से साफ है कि दिल्ली में प्रदूषण किस हद तक खतरनाक हो चुका है। उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट में प्रदूषण के कारण दिल्ली को 58 हज़ार करोड़ रुपये का आर्थिक नुकसान हुआ है। यही नहीं वायु में पीएम 2.5 का स्तर इतना बढ़ चुका है कि इससे दिल्ली वालों का दम घूंट रहा है।
आदेश गुप्ता ने कहा कि लगता है केजरीवाल सरकार पर्यावरण के मुद्दे पर बिल्कुल गंभीर नहीं है, नहीं तो उसने दिल्ली में बिजली से चलने वाली बसें, यमुना को प्रदूषण मुक्त करने और राजधानी में जगह-जगह एंटी स्मॉग टावर लगाने का जो ग्रीन बजट वायदा किया था, उसे तो पूरा किया होता। ऐसा न करने से स्पष्ट है कि दिल्ली की जनता केजरीवाल सरकार की लापरवाही और नाकामी का खामियाजा भुगत रही हैं।