बच्चे के हाथ में बिस्कुट देख फफक पड़ा पिता, अपहरण के 20 दिन बाद मिली मासूम रितिक की लाश


नोएडा। ग्रेटर नोएडा में मासूम की हत्या के आरोपी की गिरफ्तारी के बाद पुलिस शव को बरामद करने के लिए पिता ब्रह्मदत्त को साथ लेकर गई थी। बेटे का शव देखते ही पिता फफक पड़ा। ब्रह्मदत्त ने बताया कि बेटे के एक हाथ में बिस्कुट लगा था। इससे आशंका है कि आरोपी बिस्कुट के बहाने से उसे अगवा कर ले गए होंगे।  ब्रह्मदत्त के अनुसार रितिक उनका छोटा बेटा था। बड़ा बेटा कैंसर से पीड़ित है। एक छह साल की बेटी भी है। परिजनों की सारी उम्मीदें रितिक पर टिकी थीं, लेकिन हैवानों ने कलेजे के टुकड़े की हत्या कर उनके सपनों को चूर-चूर कर दिया। ब्रह्मदत्त ने बताया कि वह 12 साल पहले बिहार से ग्रेनो आया था। मेहनत मजदूरी के बाद परचून की दुकान खोली थी। दुकान खोलने से पहले और बंद करने के बाद वह सेल्समैन का भी काम करता था। वह काम को आगे बढ़ाने के लिए लोन लेने का प्रयास कर रहा था। हालांकि अभी लोन मिल नहीं पाया था। ब्रह्मदत्त के अनुसार आरोपियों को किसी ने जानकारी दी थी कि उसे लोन मिल गया है या फिर मिलने वाला है। इसके बाद आरोपियों ने फिरौती वसूलने के लिए बेटे को अगवा कर लिया।
हत्या कर वसूलना चाहते थे फिरौती
पुलिस ने बताया कि आरोपियों की योजना थी कि वह हत्या करने के बाद ही फिरौती की मांग करेंगे। वह बच्चे को लेकर इधर-उधर भागने से बचना चाहते थे। लेकिन ब्रह्मदत्त ने बच्चे के लापता होते ही पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस की जांच पड़ताल शुरू होते ही आरोपी एक-एक कर कमरा छोड़कर चले गए। शक होने पर पुलिस ने एक आरोपी को फोन कर पूछताछ की तो उसने बताया कि उसके ससुर का एक्सीडेंट हो गया है, एक-दो दिन में वापस आ जाएंगे।
पत्नी की भूमिका की भी जांच
आरोपी कमरे का ताला लगाकर नहीं गए थे। इस पर पुलिस व बच्चे के परिजनों ने उनके घर पर तलाशी ली। इस दौरान विजय की पत्नी के बैग से कंचे मिले, जिनसे रितिक खेलता था। पुलिस पूरे मामले में विजय की पत्नी की भूमिका की भी जांच कर रही है।