अब दिल्‍ली में साल के 362 दिन मिलेगी शराब! ड्राइे डे 21 से घटाकर 3 करने की तैयारी


  • राजधानी दिल्‍ली के भीतर अब 365 दिन में से 362 दिन मिलेगी शराब!
  • दिल्ली में घट सकते हैं ड्राई डे, मौजूदा 21 ड्राई डे को 3 करने की सिफारिश
  • एक्साइज पॉलिसी होगी फ्रेंडलीए उम्र को भी घटाने का प्रस्ताव
  • आधी रात के बाद भी शराब परोसे जाने का प्रस्ताव, अतिरिक्त फीस देनी
नई दिल्ली ब्यूरो। दिल्ली की मौजूदा एक्साइज पॉलिसी को काफी हद तक कस्टमर फ्रेंडली बनाने की कोशिश की जा रही है। इसके लिए एक एक्सपर्ट कमिटी भी बनाई गई है। जिसने एक्साइज रिफॉर्म पर सरकार को कई तरह के सुझाव दिए हैं। इनमें से एक सुझाव दिल्ली में ड्राई डे कम करने का भी दिया गया है। इसमें कहा गया है कि मौजूदा समय में दिल्ली में सालभर में ड्राई डे की संख्या 21 है। कमिटी ने इन्हें घटाकर तीन करने का प्रस्ताव दिया है।
रेवेन्‍यू में घाटा, जिंदगी का भी खतरा
इसके पीछे कमिटी ने दिल्ली से लगते पड़ोसी राज्यों के ड्राई डे का तर्क देते हुए बताया है कि हरियाणा में ड्राई डे की यह संख्या तीन, उत्तर-प्रदेश में चार और पंजाब में तीन है। ऐसे में दिल्ली में अधिक ड्राई डे होने की वजह से शराब पीने के इच्छुक लोग पड़ोसी राज्यों से या फिर अवैध शराब खरीदकर पीते हैं। इससे ना केवल दिल्ली के एक्साइज रेवेन्यू में घाटा होता है बल्कि अवैध शराब से लोगों की जिंदगी भी दांव पर लगती है। इसी वजह से कमिटी ने दिल्ली में 21 ड्राई डे को घटाकर तीन करने का प्रस्ताव दिया है। इसके अलावा कमिटी ने शराब पीने की 25 साल की उम्र को 21 साल करने का भी प्रस्ताव रखा है। इसके लिए कमिटी ने बताया है कि कई राज्यों में ऐसा है। जहां शराब पीने की न्यूनतम उम्र 21 साल है। 25 साल की उम्र की वजह से 21 से 25 साल के यूथ दिल्ली से बाहर जाकर शराब पीकर दिल्ली में आता है या फिर अवैध रूप से शराब पीता है। ऐसे में कमिटी ने सुझाव दिया है कि दिल्ली में शराब पीने की उम्र 25 से घटाकर 21 साल कर दी जाए।
रात 3 बजे तक मिल सकती है शराब
दिल्ली में तेजी से पनप रहे नाइट कल्चर को देखते हुए कमिटी ने एक सुझाव यह भी दिया है कि मौजूदा नियमों के तहत दिल्ली में अभी रात 1 बजे तक ही कुछ बार, क्लब और रेस्टोरेंट में शराब परोसे जाने की इजाजत है। इस समय को रात 1 बजे की जगह आधी रात के बाद 3 बजे तक करने का प्रस्ताव भी कमिटी ने दिया है। यानी दिल्ली में ऐसे कुछ बार, क्लब और रेस्टोरेंट को आधी रात के बाद 3 बजे तक शराब परोसने की इजाजत दी जाए। जो मौजूदा सिस्टम के तहत रात 1 बजे तक ही शराब परोस पाते हैं। इस सुविधा का लाभ उठाने वाले कस्टमर्स से कुछ अतिरिक्त फीस लेकर यह सुविधा दी जाए। कमिटी ने यह भी सुझाव दिया है कि जिन-जिन भी क्लब, बार और रेस्टोरेंट कस्टमर्स को शराब परोसी जाती है। मौजूदा सिस्टम में शराब बोतल को खोलकर या फिर ग्लास में सर्व की जाती है। यानी बंद बोतल नहीं दी जाती। कमिटी ने सिफारिश की है कि अगर कस्टमर चाहता है कि उसे बंद बोतल दी जाए तो इसमें कोई हर्ज नहीं है। इससे कस्टमर को यह भी भरोसा रहेगा कि उसने जो ब्रांड मांगा है। वही ब्रांड उसके पास बंद बोतल में दिया गया है। इसमें बस यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि कस्टमर बंद बोतल को परिसर से बाहर ना लेकर जाए।