कानपुर में समन तामील कराने पहुंची पुलिस, आरोपियों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा और वर्दी फाड़ी


  • कानपुर में यह कोई पहला मामला नहीं, इससे पहले भी कई मामले ऐसे हो चुके हैं
  • पुलिस ने 11 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की
  • थाने की फोर्स मौके पर पहुंची तो आरोपी घर पर ताला लगाकर फरार हो चुके थे
कानपुर ब्यूरो। कानपुर में दबंगों के हौसले इतने बुलंद हैं कि पुलिस पर जानलेवा हमला करने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं। समन तामील कराने गए सिपाहियों को दबंग पिता-पुत्र ने अपने साथियों के साथ मिलकर दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। इतना ही दबंगों ने दोनों सिपाहियों की वर्दी फाड़ दी। किसी तरह से जान बचा कर भागे सिपाहियों ने थाने में सूचना दी। जब थाने का फोर्स मौके पर पहुंचा तो दबंग मौके से फरार हो चुके थे। पुलिस ने 11 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। कर्नलगंज थाना क्षेत्र में रहने वाले इरशाद का एससीएमएम तृतीय की कोर्ट ने वाहन चालान के संबंध में समन जारी किया था। कर्नलगंज थाने में तैनात सिपाही छोटेलाल और राहुल वर्मा मंगलवार शाम समन तामील कराने के लिए गए थे। सिपाही जैसे ही इरसाद के घर पहुंचे और समन जारी होने की जानकारी दी। इरसाद अपने भाई हसन और पिता अंसार के साथ मिलकर सिपाहियों के साथ गाली-गलौज करने लगा।
ताला लगाकर आरोपी फरार
सिपाही छोटेलाल और राहुल वर्मा ने गाली-गलौज का विरोध किया तो पिता-पुत्र ने मोहल्ले से और अपने साथियों को बुला लिया। लगभग एक दर्जन लोगों ने सिपाहियों पर हमला कर दिया। सभी मिलकर पुलिस कर्मियों के साथ मारपीट करने लगे। सिपाही खुद की जान बचाकर भागे और घटना की सूचना कर्नलगंज थाने को दी। थाने की फोर्स मौके पर पहुंची तो आरोपी घर पर ताला लगाकर फरार हो चुके थे।
एफआईआर दर्ज
कर्नलगंज थानाध्यक्ष प्रभुकांत के मुताबिक, सिपाही की तहरीर पर सरकारी कार्य में बाधा, गाली-गलौज, मारपीट, धमकी देना समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज किया गया है। इसके साथ ही पुलिस ने देर रात इरसाद और हसन को अरेस्ट किया है। बाकी लोगों की तलाश जारी है।