आजादी के बाद पहली महिला को फांसी की तैयारी! शबनम ने प्रेमी संग मिल पूरे परिवार को उतारा था मौत के घाट


  • मथुरा जेल में महिलाओं के फांसी घर की मरम्मत की तैयारी
  • शबनम ने 2008 में प्रेमी संग मिल परिवार को काट डाला था
  • जेल अधीक्षक ने फांसी पर मुहर से किया इनकार, रस्सी तैयार
मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा जेल में महिलाओं को भी फांसी देने की व्यवस्था है। महिलाओं के फांसी घर के मरम्मत की तैयारी की जा रही है। सूत्रों के अनुसार यहां शबनम नाम की महिला अपराधी को फांसी की सजा दी जा सकती है। हालांकि जेल अधीक्षक ने फांसी दिए जाने की जानकारी से इनकार किया है। महिलाओं की फांसी के लिए प्रदेश में यह एकमात्र जेल है। हालांकि यहां आजादी के बाद से किसी को फांसी नहीं दी गई है। मथुरा जेल में 1870 में फांसी घर बनाया गया था। लेकिन जेल में मौजूद रेकॉर्ड के अनुसार आजादी के बाद से इस फांसी घर का प्रयोग नहीं किया गया है। मथुरा जेल में अब एक बार फिर जीर्ण-शीर्ण हो चुके फांसी घर को दुरुस्त करने का कार्य शुरू कर दिया गया है।
जेल अधीक्ष ने कहा- केवल मरम्मत की तैयारी
फांसी घर को दुरुस्त करने के लिए जेल अधीक्षक ने अपने आला अधिकारियों को पत्र लिखा है। जेल अधीक्षक शैलेन्द्र कुमार मैत्रेय ने बताया है कि उनके पास शबनम को फांसी दिए जाने के संबंध में फिलहाल कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि फांसी घर की स्थिति खराब हो गई थी, जिसे दुरुस्त कराने के लिए पत्र लिखा गया है। उन्होंने बताया कि रस्सी का भी ऑर्डर दिया गया है।
7 लोगों की हत्यारी, कौन है शबनम?
जेल सूत्रों के मुताबिक अमरोहा की रहने वाली महिला शबनम को दी जाने वाली संभावित फांसी के लिए इसे दुरुस्त किया जा रहा है। अमरोहा की रहने वाली शबनम ने अपने प्रेमी सलीम के साथ मिलकर 15 अप्रैल 2008 को 7 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। शबनम ने अपने माता-पिता, दो भाई, भाभी, मौसी की लड़की, भतीजे की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी थी।