घर में काम करने वाली लड़की को अपनी दूसरी पत्नी बनाना चाहता था, नहीं मानी तो पिता और भतीजी के साथ कर दी हत्या


  • छत्तीसगढ़ के कोरबा में ट्रिपल मर्डर से सनसनी
  • 16 वर्षीय लड़की, उसके पिता और भतीजी की हुई हत्या
  • नाबालिग को अपनी पत्नी बनाना चाहता था मुख्य आरोपी
कोरबा। छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में एक 16 साल की लड़की के साथ दुष्कर्म करने के बाद उसकी हत्या कर दी गई। आरोपियों ने लड़की के पिता और भतीजी को भी पत्थरों से कुचलकर मार डाला। शुक्रवार को हुई घटना का खुलासा मंगलवार को हुआ और पुलिस ने 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। कोरबा में पहाड़ी कोरवा परिवार के तीन लोगों की हत्या का मामला सुलझ गया है। हत्यारे की बुरी नज़र अपने ही यहां काम करने वाले की 16 साल की लड़की पर थी। वह उसे दूसरी पत्नी बनाकर रखना चाहता था। जब पहाड़ी कोरवा परिवार नहीं माना, तो जंगल में अपने 5 साथियों के साथ लड़की के पिता और उसके चार साल की बच्ची की पत्थरों से कुचलकर हत्या कर दी और लड़की के साथ छह लोगों ने दुष्कर्म किया। इसके बाद उसे भी पत्थरों से कुचल दिया। पुलिस के मुताबिक मुख्य आरोपी संतराम मंझवार के यहां पहाड़ी कोरवा का परिवार करीब एक साल से काम करता था और उसी के घर में रहता भी था। पहाड़ी कोरवा परिवार में 16 साल की लड़की के पिता, माता के अलावा दो और चार साल की भतीजी भी थे। संतराम की बुरी नजर लड़की पर थी और वह उसे अपनी दूसरी पत्नी बनाना चाहता था, लेकिन लड़की इसके लिए तैयार नहीं थी। संतराम काफी दिनों से लड़की को परेशान कर रहा था। जब भी उसके माता-पिता काम पर निकलते, संतराम लड़की के साथ बदतमीजी करता। उससे गंदी बातें करता और दूसरी पत्नी बनने की जिद करता। परेशान होकर लड़की ने अपने माता-पिता से शिकायत की उन्होंने संतराम का घर छोड़ने का फैसला कर लिया। लड़की के परिवार के फैसले से संतराम बेहद गुस्से में आ गया और उसने अपराध की पूरी योजना बना डाली। संतराम ने कहा कि वह सभी को उनके गांव छुड़वा देगा। साजिश के तहत उसने लड़की की मां और दो साल की भतीजी को बाइक से गढ़ गांव के बस स्टैंड भेज दिया। लड़की, उसके पिता और चार साल की भतीजी को संतराम और उसके पांच साथी जंगल के रास्ते से लेकर चले। रास्ते में उन्होंने पहले शराब पी और फिर लाठी और पत्थरों से कुचलकर चार साल की भतीजी और पिता को मार डाला। इसके बाद सभी ने लड़की के साथ दुष्कर्म किया। दुष्कर्म करने के बाद लड़की को भी पत्थरों से कुचल दिया। घटना को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी लड़की को मरा हुआ समझकर वहां से भाग निकले। उधर, लड़की की मां उनका इंतजार करती रही। शुक्रवार से लेकर मंगलवार तक उनका कोई पता नहीं चला। मंगलवार को ही गढ़ गांव में लोगों की नजर लाशों पर पड़ी तो पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने लेमरू थाना में आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों में संतराम मंझवार, अनिल सारथी, उमाशंकर यादव, आनंदराम पनिका, परदेशी राम पनिका व अब्दुल जब्बार शामिल हैं।