कन्नौज में कोर्ट जा रहे गैंगस्टर हत्यारोपी की दिन दहाड़े गोली मारकर हत्या


कन्नौज। यूपी के कन्नौज जिले में गैंगस्टर कोर्ट में पेशी पर जा रहे हत्यारोपी को चार लोगों ने घेरकर गोली मारकर हत्या कर दी। दिन दहाड़े हुई हत्या से इलाके में हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही सदर कोतवाली पुलिस समेत भारी पुलिस मौके पर पहुंच गया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस ने आरोपी के परिजनों को हिरासत में ले लिया है। मृतक हत्या के आरोप में तीन माह जेल की सजा काटकर लौटा था।
कोर्ट में सरेंडर करने जा रहा था नीलेश
कन्नौज सदर कोतवाली क्षेत्र के तहसीपुर गांव निवासी 30 वर्षीय नीलेश कुमार पुत्र बालक पर पुलिस ने गैंगस्टर की कार्रवाई की थी। सोमवार को पिता उमाकांत व जीजा रामवीर के साथ बाइक पर बैठकर कोर्ट में सरेंडर करने जा रहा था। गांव के बाहर पहुंचते ही गांव के ही रहने वाले मंजीत, डब्बू अपने साथी राजेश व परमाई के साथ घेर लिया। मंजीत ने नीलेश के सीने में तमंचा लगाकर गोली मार दी। इससे युवक की मौके पर ही मौत हो गई।
सूचना पर तुरंत पहुंची पुलिस
दिन दहाड़े हुई हत्या से इलाके में सनसनी फैल गई। सूचना मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस ने आरोपियों के परिजनों को हिरासत में लेकर जांच-पड़ताल शुरू कर दी है।
पिछले साल मंजीत के भाई की हत्या हुई थी
जानकारी के अनुसार, 9 अक्टूबर 2020 को गांव में मुख्य हत्यारोपी मंजीत के भाई चंद्रकिशोर उर्फ चुन्नू की हत्या कर दी गई थी। इसमें मंजीत ने नीलेश, उसके साथी शिवम और राजकुमार के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। 25 जनवरी को नीलेश जेल से रिहा होकर आया था। तीन फरवरी को कोतवाली पुलिस ने तीनों के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई की थी। इससे नीलेश कोर्ट में हाजिर होने के लिए घर से निकला था। एसपी प्रशांत वर्मा ने बताया कि हत्यारोपियों की तलाश में दबिश दी जा रही है। जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
नीलेश कोर्ट के लिए निकला तो उसके साथ उसकी बाइक पर उमाशंकर और दूसरी बाइक पर जीजा राजवीर और चाचा रामकुमार साथ हो लिए। कहीं न कहीं उनके मन में भी आशंका थी। लेकिन रास्ते में इस तरह की घटना होगी। बताया जा रहा है कि वह सभी लोग गंगपुर मोड़ के पास पहुंचे तो पहले से ही नीलेश की राह तक रहे मंजीत ने अपनी बाइक को बीच सड़क पर खड़ी करके उनका रास्ता रोक लिया। मंजीत के साथ बाइक पर बैठा डब्बू उतरा। उसने नीलेश को उसकी बाइक से उतारा और पकड़ कर खड़ा हो गया। इसी बीच पहले से ही लोडेड तमंचा से मंजीत ने नीलेश के सीने पर फायर झोंक दिया। एक ही गोली में नीलेश ढेर हो गया।