गाजियाबाद में नौकरी दिलाने के नाम पर सैकड़ों लोगों से करोड़ों की ठगी, पांच गिरफ्तार


प्रेम प्रकाश त्रिपाठी,(गाजियाबाद)। बहुराष्ट्रीय कंपनी में नौकरी दिलाने के नाम ठगी करने वाले गैंग के पांच सदस्यों को सर्विलांस और नगर कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी करीब एक हजार से अधिक लोगों से तीन करोड़ रुपये से ज्यादा की ठगी कर चुके हैं। नौकरी लगवाने केनाम पर पांच हजार रुपये से लेकर 25 हजार रुपये तक की वसूली करते हैं। पुलिस ने आरोपियों से फर्जी नियुक्ति पत्र, लैपटाप व नकदी बरामद की है। एसपी सिटी (प्रथम) निपुण अग्रवाल ने बताया कि रविवार की शाम सर्विलांस टीम को इस गिरोह के बारे में सूचना मिली थी। इसके बाद टीम ने नगर कोतवाली पुलिस के साथ चौधरी मोड़ के पास पहुंची। पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ की तो वह सही से जवाब नहीं दे पाए। आरोपियों केपास से नौ नए और आठ पुराने सिमकार्ड बरामद किए। इसके अलावा एक चेकबुक, एक पासबुक, 12 मोबाइल फोन, आठ एटीएम कार्ड, एक डायरी, तीन मुहर, दो दर्जन से अधिक फर्जी नियुक्ति पत्र, एक लैपटॉप और साढ़े पांच हजार रुपये की नगदी बरामद की है। एसपी सिटी ने बताया कि आरोपियों की पहचान शाहबेरी बिसरख निवासी नितेश गिरी और मुकेश गिरि, विधुना औरैया निवासी चंदन, गोपाल गंज बिहार निवासी दुर्गेश गिरी और अहीरखुर्द इटावा निवासी महेंद्र सिंह के रूप में हुई है। गैंग के सरगना चंदन ने विज्ञान वर्ग से स्नातक की पढ़ाई की है। उसने कुछ समय के लिए एक प्रतिष्ठित कंपनी में एचआर में नौकरी की है। वहां पर काम करने के बाद दिमाग में ठगी करने के आइडिया आए। उसने नौकरी छोड़ दी और एक फर्जी तरीके से प्लेसमेंट एजेंसी खोल ली। उस एजेंसी में कई युवकों को जोड़ा। जो हिंदी के साथ थोड़ी बहुत अंग्रेजी बोलना भी जानते हैं। उनसे बेरोजगार युवकों को कॉल कराकर नौकरी के नाम पर ठगी करता था।
सैकड़ों लोगों से कर चुके हैं करोड़ों की ठगी
क्षेत्राधिकारी प्रथम अभय कुमार मिश्रा ने बताया कि चंदन ने वर्ष 2018 में नौकरी छोड़ने के बाद 12वीं पास कुछ युवकों को जोड़ना शुरू कर दिया था। उनके माध्यम से कॉल कराकर लोगों को ठगी का शिकार बनाना शुरू कर दिया था। उन्होंने बताया कि आरोपियों की बैंक खाते की डिटेल के आधार पर वह करीब एक हजार से अधिक लोगों से करीब तीन करोड़ रुपये की ठगी कर चुके हैं। अभी इस गैंग के अन्य सदस्यों के बारे में जानकारी की जा रही है, जिससे और मामले भी खुलकर सामने आ सकें।
बीमा कंपनी के नाम पर भी करते हैं ठगी
नगर कोतवाल संदीप कुमार सिंह ने बताया कि नौकरी के नाम पर ठगी के अलावा आरोपी बीमा कंपनी के नाम पर भी ठगी करते हैं। पहले पॅालिसी का प्रीमियम जमा करने और उस पर ज्यादा रकम देने की बात का झांसा देते हैं। बताया की इस नाम पर भी काफी लोगों से ठगी की गई है। आरोपियों से इस बारे में भी पूरी जानकारी की जा रही है।
ऑनलाइन जॉब पोर्टल से बेरोजगारों के नंबर लेकर करते हैं संपर्क
पुलिस ने बताया कि आरोपी ऑनलाइन जॉब पोर्टल से बेरोजगार युवकों की डिटेल लेकर उनके मोबाइल नंबर पर संपर्क करते थे और अपने को बहुराष्ट्रीय कंपनी का अधिकारी या कर्मचारी बताते थे। इसके एवज में लोगों से रुपये की मांग करते थे। उन्हें बड़े वेतन देने की बात भी कही जाती थी। जिसको जितना ज्यादा वेतन बताया जाता था, उससे उतने ही ज्यादा पैसे लिए जाते थे। बताया कि पांच हजार रुपये से लेकर 25 हजार रुपये तक वसूलते थे।