मां ने पहले बेटे का गला रेता, फिर कीटनाशक खाकर खुद को कमरे में किया बंद, अस्पताल में मौत


बुलंदशहर। उत्तर प्रदेश के बुलंदशर में दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है। एक महिला ने अपने पुत्र की गला रेतकर हत्या कर दी। इसके बाद खुद भी जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने मां-बेटे के शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। बताया गया कि महिला मानसिक रूप से बीमार थी और उसका भूत-प्रेत से संबंधित इलाज भी चल रहा था। जानकारी के अनुसार, रामघाट थाना के गांव विजय नगलिया में जितेंद्री ने बुधवार की देर रात सबसे पहले घर की छत पर जाकर अपने बेटे का गला काटा। इसके बाद खुद भी जहर का सेवन कर छत से कूद गई और पास में ही एक भूसा के कमरे में जा छुपी। जैसे ही परिजन को घटना की जानकारी हुई तो पुलिस को घटनास्थल पर बुलाया गया। पुलिस ने दरवाजा तोड़कर किसी तरह महिला को अस्पताल भेजा, जहां रास्ते में उसकी मौत हो गई।
मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। पुलिस पूरे मामले में जांच में जुट गई है। एसएसपी संतोष कुमार ने बताया कि महिला रामघाट थाना क्षेत्र में विजय नगरिया गांव की रहने वाली है। उसकी शादी 2 साल पहले हुई थी। उसका पति राजस्थान में दर्जी की नौकरी करता है। मृतका अपने परिवार के साथ कमरे में सोई थी। देर रात जितेंद्री ने छत पर जाकर पहले अपने 11 माह के बेटे की गला रेत कर हत्या कर दी। फिर जहरीला पदार्थ का सेवन कर लिया और छत से कूद गई।
परिजन जब कमरे में गए तो देखा कि बच्चे की हत्या कर दी गई थी। मौके पर कोई कीटनाशक दवाई भी पड़ी थी। जब महिला को ढूंढा गया तो वह एक मकान में अंदर से कुंडी लगाकर बंद पड़ी थी। उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई। पूछताछ में पता चला कि महिला मानसिक रूप से परेशान थी और उसका भूत प्रेत का इलाज भी चल रहा था।