कासगंज में शराब माफिया ने तोड़ी डालीं दरोगा की हड्डियां और पसलियां, हालत बिगड़ी, दिल्ली एम्स के लिए रेफर


  • कासगंज में बिकरू कांड जैसी हुई घटना
  • दबिश देने गए दरोगा और सिपाही की जमकर पिटाई
  • सिपाही की मौत, दरोगा की हालत गंभीर, दिल्ली एम्स के लिए किए गए रेफर
  • शरीर में कई जगह टूटीं दरोगा की हड्डियां, लोगों में माफियाओं के खिलाफ गुस्सा
कासगंज। कासगंज के सिढपुरा थाना क्षेत्र के गांव नगला धीमर में हुई घटना ने एक बार फिर से अपराधियों के हौसले बुलंद होते दिख रहे हैं। नगला भिकारी में अवैध शराब की सूचना पर कार्यवाई को निकले सिढपुरा थाने के दरोगा और एक सिपाही की शराब माफियाओं ने जमकर पिटाई की। दरोगा की हालत गंभीर होने के बाद उसे अलीगढ़ से एम्स दिल्ली रेफर किया गया है। हमले में सिपाही देवेंद्र की मौत हो गई। दरोगा अशोक कुमार को गंभीर अवस्था में अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। यहां पर बुधवार को हालत बिगड़ने के बाद उन्हें एम्स दिल्ली के लिए रेफर किया गया।
शराब माफिया ने की यह हालत
इस दौरान शराब माफिया ने अशोक को जमकर पीटा। हालत गंभीर होने के बाद अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक डॉ हारिस मनसूर ने बताया कि अशोक कुमार को मल्टीपल इंजरी हैं। उसके चेस्ट में चोटें मिली हैं जिसकी वजह से सीटीवीएस विभाग में उनका इलाज चल रहा है। उनके पैर में फैक्चर है, सिर पर भी चोटें हैं। कासगंज में मंगलवार को बिकरू कांड जैसी वारदात हुई। इलाके में अवैध शराब का धंधा बंद करवाने गए सिढ़पुरा थाने के दारोगा और सिपाही को शराब माफिया ने बंधक बना लिया था। उनकी वर्दी उतरवाई और लाठी-डंडों से दोनों की जमकर पिटाई की। घटना की जानकारी होते ही सिढ़पुरा व आस-पास के थानों की पुलिस फोर्स व पीएसी को मौके पर भेजा गया। डेढ़ घंटे की तलाशी के बाद लहूलुहान दरोगा और सिपाही खेतों में पड़े मिले। दोनों को गंजडुंडवारा चिकित्सालय ले जाया गया। वहां से उन्हें अलीगढ़ रेफर कर दिया गया। इलाज के दौरान सिपाही ने दम तोड़ दिया।
वर्दियां उतरवाईं, फिर पीट-पीटकर किया जख्मी
एसपी, कासगंज आदित्य वर्मा ने बताया कि मंगलवार देर शाम सिढ़पुरा थाने के दरोगा अशोक कुमार, सिपाही देवेंद्र के साथ नगला भिकारी और नगला धीमर के जंगलों की ओर गए थे। वहां से अवैध शराब बनाए जाने की सूचना मिली थी। दोनों बाइक से मौके पर पहुंचे तो वहां मौजूद लोगों ने उन्हें घेरकर बंधक बना लिया। पहले पुलिस कर्मियों की वर्दियां उतरवाईं फिर पीट-पीटकर दोनों को लहूलुहान कर दिया और खेत में छोड़कर भाग गए। इलाका खंगालने के दौरान पुलिस को घटना स्थल के पास से दरोगा अशोक कुमार की बाइक के साथ एक और बाइक मिली है। उसी बाइक पर दरोगा की वर्दी और जूते रखे थे।