दिल्ली पुलिस की नई पहल : तलवार से बचने के लिए स्टील की लाठी बनवाई


नई दिल्ली ब्यूरो। दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए अब अपने स्तर से एक नया हथियार विकसित करवाया है। फिलहाल इसे ट्रायल के लिए मंगाया गया था मगर कुछ तकनीकी वजहों से इसे वापस कर दिया गया है। कुछ और फेरबदल के बाद इसे महकमे में शामिल किए जाने की उम्मीद है। शाहदरा जिले की पुलिस टीम को तलवार जैसी दिखने वाली खास तरह की स्टील की लाठियां दी गई हैं। ये लाठियां हॉलीवुड की फिल्मों में दिखने वाली तलवार जैसी है। इसके साथ एक बाजूबंद भी है जिससे पुलिसकर्मी सामने से हमला करने वाले के हमले को रोक भी सकेंगे। फिलहाल पुलिस की ओर से इसमें कुछ और फेरबदल करने की सलाह इसे बनाने वाली कंपनी को दी गई है। फेरबदल के बाद जब ये लाठियां पुलिस के पास पहुंचेगी तो वो इसको इस्तेमाल कर पाएंगे। फिलहाल इन लाठियों को देखने से वो किसी हॉलीवुड फिल्म की तलवार जैसी दिख रही हैं। पुलिस की एक टीम ने इसको अपने हाथों में लेकर देखा। उसके बाद इसकी तस्वीर ली गई। तस्वीर सोशल मीडिया में काफी वायरल हो गई। दरअसल कुछ दिन पहले दिल्ली में विभिन्न इलाकों में किसानों ने जिस तरह से उपद्रव मचाया, उसके बाद पुलिस काफी सतर्क हो गई है। सिंघु बॉर्डर पर किसान ने पुलिस के एक अधिकारी पर तलवार से हमला करके उन्हें घायल कर दिया। पुलिस अपने जवानों की सुरक्षा को पुख्ता करने के लिए लगातार लगी हुई है। इसी कड़ी में इन नई तरह की लाठियों का सैंपल मंगवाया गया था। इन लाठियों की शेप तलवार सरीखी है। मगर इनमें उस तरह से धार नहीं है बल्कि ये लाठी की तरह ही है। इनको पकड़ने के लिए तलवार की तरह जैसा हत्था बनाया गया है। इसी के साथ एक हाथ पर किसी दूसरे के प्रहार को रोकने के लिए बाजू बंद भी है। इस बाजूबंद पर सामने से वार करने वाले को रोका जा सकता है। ये देखने में आया है कि कई बार सिपाही के पास लाठी होती है, सामने से जब हमला होता है तो लाठी टूट जाती है। यदि किसी पुलिसकर्मी के हाथ या उंगली में लग जाती है तो उसके हाथ से लाठी छूट जाती है उसके बाद उपद्रवी उन पर हमला कर देते हैं। लाल किले के बाहर, शाहदरा, यूपी गेट, आइटीओ आदि जैसी जगहों पर किसानों के उपद्रव के दौरान ऐसे तमाम सीन देखने को मिले जिसमें उपद्रवियों ने पुलिस की लाठी छीनकर उन पर ही हमला किया और घायल किया। इस नई लाठी की खासियत ये भी है कि आसानी से ये किसी सिपाही के हाथ से छूट नहीं सकेगी, यदि लाठी छूट भी गई तो हाथ में लगे बाजूबंद से वो सामने वाले के प्रहार को भी रोक सकेगा। चोट लगने की संभावना कम हो जाएगी।