150 बाइकें चुराने वाले मेवाती गैंग के 3 बदमाश गिरफ्तार


नई दिल्ली। साउथ जिले के स्पेशल स्टाफ ने गाड़ी चोर मेवाती गैंग का भंडाफोड़ किया है। सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने के बाद पुलिस इस गैंग तक पहुंचने में सफल रही। इनसे चोरी की 15 बाइक के अलावा चाबियों का गुच्छा भी बरामद किया गया है। इनकी गिरफ्तारी से 15 केस सुलझाने का दावा है। आरोपियों की शिनाख्त यूपी के मथुरा जिले के आस मोहम्मद (30), हरियाणा के पलवल जिले के आसिफ (28) और हरियाणा के नूंह जिले के जहूल के तौर पर हुई है।
डीसीपी (साउथ) अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि गाड़ी चोरी की वारदात के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने पर एक आरोपी की पहचान आस मोहम्मद के तौर पर हो गई। उसके बारे में जानकारी जुटाने का काम शुरू कर दिया गया। हवलदार मकसूद को बाइक चोर मेवाती गैंग की गतिविधि के बारे में 5 मार्च को सूचना मिली। इसके मद्देनजर एसीपी बिजेंद्र बिधूड़ी की देखरेख में इंस्पेक्टर गिरीश कुमार, एसआई राहुल मलान, एचसी रमेश और सिपाही प्रदीप, प्रदीप और तेज नारायण की टीम बनाई गई। उन्होंने आंबेडकर नगर के हरिजन कैंप स्थित नाला रोड के एमसीडी स्कूल के पास एक बाइक में सवार होकर आ रहे तीनों बदमाशों को दबोच लिया। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि चोरी की गाड़ियों को मेवात में ठिकाने लगाते थे।
पुलिस तीनों को रिमांड पर लेकर मेवात गई, जहां से 15 बाइक बरामद कर ली गईं। हालांकि रिसीवर फरार होने में सफल रहे। गैंग का लीडर आस मोहम्मद है, जो बाइक चोरी के लिए मेवात से लड़कों को हायर करता था। वह खुद बाइकों के ताले तोड़ने में माहिर है। 2009 में पहली बार शकरपुर पुलिस के हत्थे चढ़ा था। गैंग एक ग्रुप बनाकर दिल्ली आता था और वापस लौटते समय सभी मेंबर एक-एक चोरी की बाइक लेकर लौटते थे। चोरी की एक बाइक को 5 से 12 हजार रुपये में बेचा जाता था। गैंग के मेंबर को बदले में 2500 से 3500 रुपये दिए जाते थे। लॉकडाउन के बाद आठ महीने में गैंग ने 150 से ज्यादा बाइकें चोरी कीं।