वेलकम थाना पुलिस ने रंगदारी के मामले में छेनू गेंग के गुर्गों को किया गिरफ्तार


अभय गंगवार,(दिल्ली ब्यूरो)। राजधानी दिल्ली के उत्तर पूर्वी जिले के वेलकम थाना पुलिस की टीम ने जबरन वसूली के मामले में छह अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों के पास से दो वाहन एक पिस्तौल एवं तीन जिंदा कारतूस भी बरामद किए गए हैं। सूत्रों के अनुसार तिहाड़ जेल में बंद कुख्यात गैंगस्टर इरफान उर्फ छेनू के गुर्गे वसीम उर्फ फौजी ने मंडोली जेल से एक कारोबारी से हर हफ्ते 20 हजार रुपये की प्रोटेक्शन मनी मांगी। कारोबारी ने इनकार किया तो अगले दिन अपने गुर्गों से उसके घर के बाहर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। कारोबारी से जबरन 4 हजार रुपये लूटकर ले गए। नॉर्थ ईस्ट जिले के वेलकम थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की। आरोपी बाबरपुर के सादिक उर्फ फैसल उर्फ त्यागी (22), मौजपुर के शाहरुख (23), कबीर नगर के समीर (21), मुस्तफाबाद के शफीक (26), पुराना मुस्ताबाद के सुहेल (20) और एक नाबालिग को पकड़ लिया।
डीसीपी (नॉर्थ ईस्ट) संजय कुमार सैन ने बताया कि दीपक (26) परिवार समेत बाबरपुर के चांद मस्जिद वाली गली में रहते हैं। वह ई-रिक्शा किराए पर देने का काम करते हैं। उन्होंने 26 फरवरी को शिकायत दी कि 25 फरवरी को उनके पास इलाके में ही रहने वाला सादिक उर्फ फैसल उर्फ त्यागी गैंग लीडर वसीम उर्फ फौजी के नाम पर प्रोटेक्शन मनी के तौर 20 हजार रुपये हफ्ता मांगने आया। विडियो कॉल कर एक शख्स से बात कराई, जो खुद को वसीम उर्फ फौजी बता रहा था।
फौजी ने धमकी दी कि अगर 20 हजार हफ्ता नहीं दिया तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहना। दीपक ने इसे नजरअंदाज किया और पैसे देने से इनकार कर दिया। 26 फरवरी की रात 10 बजे दो बाइक और एक स्कूटर पर हथियारबंद बदमाश आए। कुछ घर में भी घुस गए और ताबड़तोड़ फायरिंग करने लगे। वसीम उर्फ फौजी को प्रोटेक्शन मनी पहुंचाने की धमकी देते हुए जबरन जेब से 4000 रुपये लूट ले गए। उन्होंने पुलिस को सूचना दी, जिसने मौके से चार खोल बरामद किए।
एसीपी सीलमपुर सुरेश चंद और एसएचओ विजय कुमार वत्स की देखरेख में एसआई निशांत, एसआई धर्मवीर, सिपाही परमेंद्र, अरुण, ऊधम सिंह और मोनू की टीम बनाई गई। पुलिस ने सोमवार रात करीब 9:30 बजे बाबरपुर के छज्जू गेट से मास्टरमाइंड सादिक उर्फ फैसल को दबोचा लिया। सादिक उर्फ फैसल की निशानदेही पर बाकी आरोपियों को भी पकड़ लिया गया। इनसे वारदात में इस्तेमाल एक बाइक, एक स्कूटर, एक पिस्टल और तीन कारतूस बरामद किए। बाइक जगतपुरी इलाके से चोरी पाई गई।
वसीम उर्फ फौजी का आपराधिक इतिहास्
वसीम उर्फ फौजी नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के कुख्यात गैंगस्टर इरफान उर्फ छेनू का गुर्गा है। वह मूल रूप से यूपी के कासगंज का रहने वाला है। आरोप है कि वह मंडोली जेल से रंगदारी गैंग चला रहा है। सादिक उर्फ फैसल टारगेट की तलाश करता था और उन्हें धमकी देता था। वसीम उर्फ फौजी ने 22 अक्टूबर 2017 को छेनू गैंग के सात बदमाशों के साथ मिलकर तिहाड़ में बंद कुख्यात गैंगस्टर अब्दुल नासिर गैंग के वाजिद और आरिफ हुसैन का ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर कत्ल किया था। इसी मामले में जेल में बंद है, जिसे पुलिस जल्द प्रॉडक्शन रिमांड पर लेगी। नासिर गिरोह ने इस कांड से पहले छेनू गैंग के इमरान और कमर का कत्ल किया था, जिसका बदला वाजिद और आरिफ का मर्डर कर लिया गया।