कनॉट प्लेस पर महिला कांग्रेस का अनोखा प्रदर्शन, जींस पर चलाई कैंची


राजीव गौड़,(दिल्ली ब्यूरो)। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत द्वारा दिए गए कटी जींस वाले बयान पर अभी लोगों में आक्रोश है। एक ओर जहां सोशल मीडिया पर लोग अपना गुस्सा उतार रहे हैं, वहीं देश के कई शहरों में उत्तराखंड के सीएम के खिलाफ सड़कों पर भी प्रदर्शन हो रहे हैं। ऐसा ही एक प्रदर्शन आज दिल्ली महिला कांग्रेस की तरफ से कनॉट प्लेस में किया गया।
 गौरतलब है कि शुक्रवार दिन में महिला कांग्रेस की ओर से कनॉट प्लेस में नारेबाजी की गई और तीरथ सिंह रावत के खिलाफ पोस्टर-बैनर भी लहराए गए। यहां महिलाओं ने अपनी जींस पर कैंची भी चलाई। देश की तमाम महिलाओं ने तीरथ सिंह के बयान की आलोचना की है। रावत ने कटी जींस पहनने वाली महिलाओं के लिए कहा था कि, महिलाएं इस तरह के कपड़े पहनकर समाज को कैसे संस्कार देना चाहती हैं। उनके इस बयान पर अब उनकी ही पार्टी के लोग भी सवाल उठा रहे हैं।
 पार्टी के भीतर ही तीरथ सिंह रावत के बयानों की कड़ी आलोचना हो रही है। उत्तराखंड के विरोधी खेमे में मौजूद भाजपाइयों को बैठे-बिठाए 'फटी जींस विवाद' में टांग अड़ाने का मौका मिल गया है। नतीजा ये हुआ है कि गढ़वाल से लेकर कुमाऊं तक भाजपा के अपने ही विरोधी न सिर्फ इस मामले में चटखारे लेने लगे हैं बल्कि पूरी शिद्दत से मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की छवि को धोने में लग गए हैं।
 रावत के बयान पर भारतीय जनता पार्टी का एक धड़ा अंदर ही अंदर से इस कोशिश में लगा हुआ है कि उनकी छवि पर जितना डेंट डाला जा सकता है वह फटी जींस के बयान के बाद डाला जाए। हालांकि देश दुनिया में सोशल मीडिया के माध्यम से मुख्यमंत्री रावत को जमकर निशाने पर लिया गया और उनकी सोच को लेकर लोगों ने खूब खरी-खोटी भी सुनाई। दरअसल मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को प्रदेश की कमान सौंपे जाने के बाद से कई राजनीतिक दुश्मन भी पैदा हो गए हैं। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के इस बयान के बाद भाजपा आलाकमान के कुछ नेता थोड़ा पशोपेश में तो हैं लेकिन इसको नजरअंदाज कर रावत को अपने स्तर पर ही इस विवाद से बाहर निकलने को कह रहे हैं।
 उत्तराखंड भाजपा के एक नेता जो अकसर बगावत की भाषा बोलते हैं उनका कहना है कि तीरथ सिंह रावत जैसे कद्दावर नेता अगर ऐसी भाषा महिलाओं के लिए बोलते हैं, तो यह अपमानजनक ही नहीं बल्कि उनकी सोच को भी बताता है। दूसरी तरफ तीरथ सिंह रावत की 'फटी जींस' बयान के बाद देशभर में सोशल मीडिया पर बवाल मच गया है। महिला संगठनों से लेकर अनगिनत महिलाओं और पुरुषों ने मुख्यमंत्री रावत को निशाने पर ले लिया। खासकर राजनीतिक पार्टियां भी इस बयान के बाद भाजपा और संघ के नेताओं की तस्वीरें सोशल मीडिया पर डालने लगीं। ऐसे में संघ और भाजपा में भी अंदर खाने सीएम रावत की वजह से असहज स्थिति पैदा हो गई।