दिल्ली-एनसीआर के बड़े गैंगस्टर भी इन दिनों मुंबई अंडरवर्ल्ड की तर्ज पर विदेश से चला रहे गैंग


दिल्ली ब्यूरो। दिल्ली-एनसीआर के बड़े गैंगस्टर भी इन दिनों मुंबई अंडरवर्ल्ड की तर्ज पर सीमापार से अपने गैंग को चला रहे हैं और गुर्गों के जरिए बड़ी वारदात को अंजाम दे रहे हैं। पिछले दिनों राजधानी सहित एनसीआर में हुई कई आपराधिक वारदात की जांच के क्रम में दिल्ली पुलिस ने बड़े गिरोहों की जो जानकारी जुटाई है, उसके अनुसार पांच गैंग ऐसे हैं, जिनका संचालन सीमा पार से किया जा रहा है।
इन गैंग के सरगना ने सुरक्षा एजेंसियों से बचने के लिए विदेशों में अपना ठिकाना बना रखा है। इन गैंग को चलाने वाले गैंगस्टर की गिरफ्तारी पर 2 से लेकर 7 लाख तक के इनाम घोषित हैं। फिलहाल, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल यूनिट इन गैंग की कमर तोड़ने में लगी हुई है।
मोस्ट वांटेड की सूची में हैं ये नाम
1. काला जठेड़ी
सोनीपत राई के गांव जठेड़ी निवासी गैंगस्टर संदीप उर्फ काला जठेड़ी चार दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान समेत चार राज्यों का मोस्ट वांटेड है। 12वीं तक पढ़ा काला पहले केबल ऑपरेटर था। जून 2009 में उसने रोहतक के सांपला में लूट के दौरान पहली हत्या की थी, जिसके बाद से उसके कारनामों की फेहरिस्त लंबी होती चली गई। काला पहले लारेंस बिश्नोई गिरोह के लिए काम करता था। लेकिन, अब वह खुद गैंग का संचालन करता है। पुलिस की अब तक की जांच में पता चला है कि काला नेपाल के रास्ते थाईलैंड की तरफ भागा है।
गैंग : पुलिस की मानें तो काला जठेड़ी का गैंग अभी एनसीआर में सबसे बड़ा है। करीब 200 बदमाश इस गैंग के सदस्य हैं। गैंग पर हत्या, हत्या का प्रयास, रंगदारी, लूट और डकैती की करीब 36 वारदात को अंजाम देने के आरोप हैं।
कार्रवाई : काला जठेड़ी की गिरफ्तारी पर विभिन्न राज्यों की पु़लिस की तरफ से सात लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है। एजेंसियां विदेश में उसके सही ठिकाने की तलाश कर रही हैं।
2. कपिल सांगवान उर्फ नंदू
नजफगढ़ निवासी गैंगस्टर कपिल सांगवान उर्फ नंदू पहले विकास लांगरपुरिया के साथ था। बाद में अपना गैंग चलाने लगा। दिल्ली पुलिस की सूचना के मुताबिक, नंदू सितंबर 2019 से दुबई में है और वह वहीं से गैंग को चला रहा है। वह कोलकाता से बैंकाक, दोहा, अजरबैजान होते हुए दुबई पहुंचा है।
गैंग : इस गैंग पर हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, डकैती और रंगदारी के 20 से अधिक मामलों में शामिल होने का आरोप है। यह गैंग खास तौर से राजधानी के दक्षिण-पश्चिम, बाहरी जिला और हरियाणा में वारदात को अंजाम देता है। इस गैंग में अभी 30 बदमाश हैं।
कार्रवाई : नंदू की गिरफ्तारी पर दो लाख का इनाम घोषित किया गया है। पुलिस दुबई में उसका सही लोकेशन पता करने में जुटी हुई है।
3. काला राणा
गैंगस्टर काला राणा यमुना नगर का रहने वाला है। इसका भी दिल्ली-एनसीआर में आतंक है। काला राणा पहले लॉरेंस बिश्नोई गैंग के लिए काम करता था। लेकिन, अब वह अपना गैंग चला रहा है। वह अगस्त 2019 से बैंकॉक में है।
गैंग : इस गैंग पर हत्या, हत्या का प्रयास, लूटपाट और रंगदारी के करीब 20 मामले हैं। गैंग में करीब 20 बदमाशों के शामिल होने की जानकारी है।
कार्रवाई : काला राणा की गिरफ्तारी पर दो लाख रुपये का इनाम है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है।
4. सूबे गुर्जर
गांव बाड़गुर्जर निवासी गैंगस्टर सूबे गुर्जर का भी दिल्ली-एनसीआर में बड़ा आतंक है। वह अभी दक्षिण अफ्रीका से गैंग की कमान संभाल रहा है।
गैंग : इस गैंग पर हत्या, हत्या का प्रयास, लूटपाट और रंगदारी के करीब 30 मामलों शामिल होने के आरोप हैं। गैंग में करीब 50 बदमाशों के शामिल होने की सूचना है।
कार्रवाई : सूबे गुजर की गिरफ्तारी पर पांच लाख रुपये का इनाम है। उसकी संपत्ति जब्त करने तक की कार्रवाई शुरू हो चुकी है।
5. बदन सिंह बद्दो
मेरठ जिले के टीपी नगर थाना क्षेत्र के पंजाबीपुरा के रहने वाले गैंगस्टर बदन सिंह बद्दो की भी तलाश पुलिस को है। बद्दो के गुर्गे एनसीआर में लगातार वारदात को अंजाम दे रहे हैं। एजेंसियों की मानें बद्दो फिलहाल ऑस्ट्रेलिया में छिपा है। वह मार्च 2019 से ही फरार है।
गैंग : बद्दो की गैंग में करीब 30 बदमाशों के शामिल होने का पता चला है। इस गैंग पर हत्या, हत्या का प्रयास, लूटपाट और रंगदारी के करीब 25 मामलों में शामिल होने के आरोप हैं।
कार्रवाई : बद्दो की गिरफ्तारी पर ढाई लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है। ऑस्ट्रेलिया में वह ठिकाने बदलकर रह रहा है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी की प्रक्रिया में जुटी है।