दिल्ली में राशन दिलाने के नाम पर सैकड़ों लोगों से लाखों रुपये की ठगी, एनजीओ का मालिक गिरफ्तार


नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने राशन देने की फर्जी योजना के तहत लाखों की ठगी में गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) के मालिक राजेश कुमार भारतीय को गिरफ्तार किया है। योजना के तहत लोगों को एकमुस्त 15 सौ रुपये जमा करने पर 15 महीने तक मनचाहा राशन का सामान देने का वादा किया गया था। झांसा देकर आरोपित ने 535 लोगों से आठ लाख रुपये ठग लिए थे और भूमिगत हो गया था।
ईओडब्ल्यू के डीसीपी मोहम्मद अली ने बताया कि हरीश कुमार सहित 534 लोगों ने पुलिस में ठगी की शिकायत की थी। पीड़ितों ने बताया कि टार्गेट वेलफेयर एसोसिएशन नाम की एनजीओ के मालिक राजेश कुमार भारतीय ने लोगों को राशन प्रदान करने की योजना के तहत रुपये निवेश करने को कहा था। योजना के मुताबिक कोई भी व्यक्ति 15 सौ रुपये जमा कर इसकी सदस्यता ले सकता था। इसके बदले सदस्यों को 15 महीने तक आटा, चावल, चीनी, रिफाइंड तेल इत्यादि की आपूर्ति करने का दावा उसने किया था।
आरोपित झंडेवालान, प्रताप नगर, किशनगंज, मुकुंदपुर व डाबरी इत्यादि इलाके में अपनी योजना चला रहा था। फायदा देख लोगों ने 15 सौ रुपये जमा करा योजना की सदस्यता ले ली। उधर लोगों से लाखों रुपये जमा होते ही राजेश कुमार फोन बंद कर भूमिगत हो गया। लिहाजा लोगों को ना तो राशन मिला और ना ही उनके रुपये लौटाए गए। शिकायत के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच की तो यह बात सामने आई कि आरोपित ने ठगने के इरादे से ऐसा किया था।
वहीं, एसीपी नागेन कौशिक की टीम उसकी तलाश में जुट गई। इसी दौरान पता चलने पर पुलिस ने 19 मार्च को राजेश कुमार को नांगलोई इलाके से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि वर्तमान में वह हरियाणा के मानेसर में लोगों को ठगने योजना पर काम कर रहा था।