असलहे-कारतूस के बारे में नहीं बता सके साहिबाबाद थाने के दरोगा


सूर्य प्रकाश,(गाजियाबाद ब्यूरो)। साहिबाबाद थाने पर तैनात दरोगा रविवार को थाने पर रखे असलहों, कारतूस और दंगा नियंत्रण उपकरणों के बारे में अपेक्षित जानकारी नहीं दे सके। इससे नाराज एसएसपी कलानिधि नैथानी ने होली से पहले सभी दरोगाओं की पुलिस लाइन में ट्रेनिंग कराने के निर्देश दिए हैं। एसएसपी रविवार दोपहर को साहिबाबाद थाने का वार्षिक निरीक्षण करने के लिए पहुंचे थे।
एसएसपी ने इस दौरान थाने और चौकियों पर तैनात दारोगाओं से पिस्टल, थ्री नॉट थ्री गन, एसएलआर और करतूस के बारे में जानकारी ली। दंगा नियंत्रण उपकरणों को चलाने, उनके नाम पूछे, साथ ही 32 और 30 बोर के असलहे व कारतूस में अंतर के बारे में भी पूछा। तो वहां मौजूद दरोगा ज्यादा जानकारी नहीं दे सके। एसएसपी ने हैंडराइटिंग को मिलाने, उसके बयान और उनकी धाराओं के बारे पूछा तो वहां कुछ दरोगा चुप्पी साधे रहे। इस पर एसएसपी ने दंगा नियंत्रण उपकरण चलाने और असलहे व कारतूस की जानकारी के लिए होली से पूर्व सभी दरोगाओं को टेनिंग देने के निर्देश दिए हैं। एसएसपी ने साहिबाबाद और इंदिरापुरम थाने के सभी दरोगाओं की धाराओं पर एक ग्रुप डिस्कसन कराकर विवेचनाओं की जानकारी देने के निर्देश एसपी सिटी सेकेंड ज्ञानेंद्र सिंह को दिए हैं। जिससे सही समय पर लंबित पड़ी विवेचनाओं को निस्तारण जल्द से जल्द हो सके।
रविवार को साहिबाबाद थाने के गेट पर रंगोली भी बनाई गई। कालीन बिछाई गई। साफ सफाई की व्यवस्था देखकर जहां एसएसपी संतुष्ट दिखे। वहीं थाने में खड़े सीज वाहनों को देख कर न्यायालय से आदेश लेकर निस्तारित करने का निर्देश दिया। एसएसपी ने कार्यालय, हवालात, महिला रिपोर्टिंग चौकी, अभिलेखों के रखरखाव, चोरी के वाहनों की ज्यादा से ज्यादा बरामद, पंचायत चुनावों के मद्देनजर गैंगस्टर, टॉप-10 हिस्ट्रीशीटर, सक्रिय अपराधियों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। इस दौरान एसपी सिटी ज्ञानेंद्र सिंह, एसपी देहात इराज राजा, एसपी ट्रैफिक रामानंद कुशवाहा, सीओ साहिबाबाद आलोक दुबे, सीओ फर्स्ट अभय कुमार मिश्र समेत अन्य मौजूद रहे।