गाजियाबाद में पीपीई किट-मास्क बनाने वाली फैक्टरी में लगी भीषण आग, फैक्ट्री मालिक कुणाल बहल की सफदरजंग अस्पताल में मौत गाजियाबाद


गाजियाबाद ब्यूरो। लिंक रोड थाना अंतर्गत साइट फोर स्थित पीपीई किट, मास्क और मेडिकल उपकरण बनाने की फैक्टरी में बृहस्पतिवार रात धमाके के साथ भीषण आग लग गई। इस दौरान फैक्टरी में काम कर रहे कर्मचारी आग में फंस गए। सूचना पर पहुंची एक दर्जन फायर बिग्रेड के कर्मियों ने आग बुझाने के साथ राहत कार्य शुरू किया। तब तक फैक्टरी मालिक समेत 14 लोग झुलस चुके थे। घायलों को यशोदा और मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सभी को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया गया। देर रात खबर लिखे जाने तक आग बुझाने का काम जारी था। आग लगने का कारण शार्ट सर्किट बताया जा रहा है।
बृहस्पतिवार रात दो मंजिला फैक्टरी में कई कर्मचारी काम कर रहे थे। रात करीब पौने नौ बजे अचानक से धमाके की आवाज आई। इसके बाद आग लग गई। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि फैक्टरी के अंदर आग तेजी से फैल गई। चीख चिल्लाहट की आवाज आने लगी। आवाज सुनकर आसपास के फैक्टरी के लोग वहां पहुंचे और पुलिस व दमकल को सूचना दी गई। सूचना के करीब आधे घंटे बाद पुलिस पहुंची और दमकलों का आना शुरू हो गया। दमकल कर्मियों ने आग बुझाने के साथ राहत कार्य शुरू किया। सिविल डिफेंस के लोग भी आ गए। पता चला कि फैक्टरी के बेसमेंट समेत दो मंजिल में आग फैल चुकी है और करीब 14 लोग फंसे हुए हैं। दमकल की एक दर्जन गाड़ियां आग को बाहर और अंदर से बुझाने लगी। दमकलकर्मी कड़ी मशक्कत से फैक्टरी के अंदर घुसे और 14 लोगों को किसी तरह फैक्टरी से बाहर निकाला। आग में फंसने के दौरान मालिक समेत 14 लोग झुलस गए। इनमें से एंबुलेंस से नौ घायलों को कौशांबी स्थित यशोदा अस्पताल और पांच घायलों को वैशाली स्थित मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया।
मामले में फैक्ट्री मालिक कुणाल बहल की सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई है। कुणाल का परिवार इंदिरापुरम नीति खण्ड में रहता है। इसके अलावा मैक्स अस्पताल में भर्ती एक अन्य घायल की हालत गंभीर बनी है हुई और उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है। वहीं, फैक्ट्री में लगी आग शुक्रवार दोपहर तक भी शांत नहीं हुई। आग के मलबे से धुआं निकलने के कारण दमकल की एक गाड़ी मौके पर पहुंच कर फैक्ट्री में कूलिंग का काम किया। इसके बाद फैक्ट्री को दोबारा सील कर दिया गया है।