दिल्ली में सिविल डिफेंड वालिंटयर ने खुद को गोली मारकर बुलाई पुलिस, हत्या और हथियार रखने के मामले में आरोपी है सिविल डिफेंसकर्मी


दिल्ली ब्यूरो। नेब सराय थाना क्षेत्र में दोस्त से मांगकर लाई गई पिस्तौल से फायर होने पर सिविल डिफेंसकर्मी ने खुद को बचाने के लिए पुलिस को झूठी सूचना दे दी। घटना की जांच में सच सामने आने के बाद पुलिस ने सिविल डिफेंसकर्मी और उसकी पत्नी पर मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपित युवक का एम्स अस्पताल में इलाज चल रहा है। युवक की पहचान सुजीत कुमार के रूप में हुई है। दक्षिणी दिल्ली जिले के पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि बुधवार सुबह करीब 11 बजे नेब सराय थानाक्षेत्र के इंदिरा विहार इलाके में गोलीबारी की सूचना मिली। मौके पर पहुंची पुलिस को जानकारी मिली कि एक युवक सुजीत को गोली लगी है। उसे एम्स में भर्ती कराया गया है। अस्पताल पहुंची पुलिस को सुजीत ने बताया कि वह अपने घर के बाहर खड़ा था, तभी बाइक से आए तीन युवकों ने उस पर फायरिंग कर दी। पुलिस टीम ने आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज और स्थानीय लोगों से पूछताछ की लेकिन घटना की पुष्टि नहीं हो सकी। इस दौरान पीड़ित युवक की पत्नी भी मौके से नदारद थी। पीड़ित की निशानदेही पर पुलिस ने तीन स्थानीय युवकों को हिरासत में लिया था जिन्होंने बताया कि युवक अपने किसी दोस्त से पिस्तौल मांगकर लाया था और दिखा रहा था। इस सूचना के बाद पुलिस ने पीड़ित की पत्नी की तलाश की। पीड़ित की पत्नी ने बताया कि युवक अपने किसी दोस्त से पिस्तौल लेकर आया था जो कि अचानक से चल गई और वह घायल हो गया। पुलिस से बचने के लिए उसने झूठी कहानी बनाई थी। पुलिस ने मामले में युवक और उसकी पत्नी पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।
हत्या और हथियार रखने के मामले में आरोपित है सिविल डिफेंसकर्मी
पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आरोपित साल 2016 में हत्या के एक मामले में जेल गया था। उसे साल 2019 में जमानत पर डासना जेल से रिहा किया गया। गाजियाबाद पुलिस ने आरोपित युवक पर आर्म्स एक्ट का मुकदमा भी दर्ज किया है। आरोपित दिल्ली में सिविल डिफेंसकर्मी के तौर पर काम कर रहा था।