बिना ओटीपी और पिन के ही एटीएम से पैसे उड़ा लेता है बिहारियों का शातिर गिरोह


  • एमपी के सिंगरौली से पकड़ा गया बिहारियों का शातिर गिरोह
  • बिना ओटीपी और पिन के ही एटीएम से निकाल लेते थे पैसे
  • एटीएम के डैशबोर्ड में माइक्रोचिप लगाकर देते थे फर्जीवाड़े को अंजाम
  • गिरोह में शामिल हैं इंजीनियर और मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव
सिंगरौली। मध्य प्रदेश में सिंगरौली जिले की बैढन थाना पुलिस ने बिहार के रहने वाले तीन शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है। ये तीनों मिलकर लोगों के खातों से पैसे उड़ाते थे। ताज्जुब यह कि इसके लिए उन्हें खाताधारक के ओटीपी और पिन की जरूरत भी नहीं होती थी। तीनों पढ़े-लिखे हैं और इतनी सफाई से अपने काम को अंजाम देते थे कि पीड़ित को पैसा निकलने से पहले इसकी भनक तक नहीं लगती थी।
पकड़ा गया पहला आरोपी बिहार के शेखपुरा का रहने वाला कन्हैया कुमार पेशे से इंजीनियर है। वहीं, बिहार के ही गया का रहने वाला शुभम कुमार बीकॉम ऑनर्स की डिग्री ले चुका है। इनके अलावा एक अन्य आरोपी मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव का काम कर रहा था। ये तीनों अपनी डिग्री और पढ़ाई का इस्तेमाल एटीएम से पैसे उड़ाने में कर रहे थे। एटीएम के जरिये खाते से पैसे निकालने का इनका तरीका बेहद शातिराना था। ये लोग एटीएम मशीन के डैश बोर्ड के भीतर एक माइक्रोचिप लगा देते थे। जैसे ही कोई ग्राहक एटीएम से पैसे निकालने पहुंचता तो इनकी लगाई हुई चिप में उसका पूरा डाटा पहुंच जाता था। इसकी मदद से वे ग्राहक का पिन हासिल कर लेते थे और फिर आसानी से उनके खाते से पैसे निकाल लेते थे।
पिछले कुछ दिनों से इन्होंने सिंगरौली को अपना निशाना बना लिया था। केवल एक सप्ताह के अंदर इनका गिरोह 6 लोगों को अपना निशाना बना चुका था और उनके खातों से 2 लाख रुपये से ज्यादा की रकम पार कर चुका था। शिकायत के बाद पुलिस ने पड़ताल शुरू की तो एटीएम के सीसीटीवी में ये माइक्रोचिप लगाते हुए नजर आए। बैढन थाना पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।