निवाड़ी थाना परिसर में सीज वाहनों से चोरी हो रहे पा‌र्ट्स,पुलिस की लापरवाही या मिलीभगत


गाजियाबाद ब्यूरो। निवाड़ी थाना परिसर में सीज कर खड़े किए गए वाहनों के पा‌र्ट्स इन दिनों चोरी हो रहे हैं। एकाध नहीं, बल्कि 20 से अधिक वाहनों से पहिये गायब हैं। इतना ही नहीं, अधिकांश वाहनों की हेडलाइट, वायरिग, एसी, बैटरी भी चोरी हो चुकी हैं। पिछले दिनों कुछ लोगों ने भी इस संबंध में सीओ मोदीनगर से शिकायत भी की थी। सूत्रों की मानें तो विभाग के ही कुछ लोगों की इन चोरों के साथ मिलीभगत है जो सामान चोरी कराने में उनकी मदद करते हैं। बाद में आधी-आधी रकम आपस में बांट लेते हैं। सड़क दुर्घटना, मौके पर कागज उपलब्ध नहीं कराना समेत अन्य परिस्थितियों में पुलिस वाहन सीज करते देती है, जिन्हें पुलिस की निगरानी में थाना परिसर में ही खड़ा किया जाता है। कोर्ट से आदेश मिलने पर ही मालिक को वाहन सुपुर्द किया जाता है। ऐसे सैकड़ों वाहन निवाड़ी थाना परिसर में खड़े हैं। लेकिन, पुलिस की लापरवाही कहें या मिलीभगत, इन वाहनों से सामान चोरी हो रहे हैं। थाने में खड़े सैकड़ों वाहनों में कई ऐसे हैं, जिनमें पहिये नहीं हैं। कई की हेडलाइट तक निकाल ली गई हैं। एसी पंखा, वायरिग, बैटरी भी कई वाहनों से गायब है। पुलिस थाने से वाहनों से सामान चोरी होने से लोग सकते में हैं। इसको लेकर पिछले दिनों वाहन मालिकों ने सीओ कार्यालय में शिकायत भी दी थी। 
जब वे अपने वाहन लेने पहुंचे तो उसमें से काफी सामान निकाला जा चुका था। अब भी जो लोग अपना वाहन लेने जाते हैं, उसमें से अधिकांश पा‌र्ट्स गायब ही मिलते हैं। इसको लेकर कई बार वहां पुलिस और वाहन मालिक के बीच नोकझोंक भी हो चुकी है। थाने में खड़े वाहनों से सामान चोरी करना की हिम्मत आम आदमी तो नहीं कर सकता। इसमें अंदर के लोगों का उन्हें संरक्षण जरूर हासिल होता होगा। खास बात यह है कि नए के मुकाबले पुराने वाहनों से अधिक सामान चोरी है। सूत्रों की मानें तो थाने में खड़े वाहनों से चोर सामान निकालकर उसे कम दामों में बेच आते हैं। कुछ रकम इसमें सामान चोरी कराने में मदद करने वाले को दी जाती है।