दिल्ली में चेकिंग के लिए रोकने पर सिपाही को मारी गोली



दिल्ली ब्यूरो। बुधवार सुबह करीब नौ हुई एक के बाद एक गोलीबारी की दो घटनाओं से डिफेंस कॉलोनी इलाका थर्रा उठा। चेकिंग के लिए रोकने पर बदमाशों ने सिपाही को गोली मार दी। हालांकि गोली लगने के बावजूद सिपाही ने दूसरे सिपाही की मदर से दोनों बदमाशों को दबोच लिया। घायल सिपाही को ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। 
गोली लगने के बावजूद सिपाही ने बदमाशों को दबोचा-
डिफेंस कॉलोनी थाने में तैनात सिपाही नवीन बुधवार सुबह अपने घर से डिफेंस कॉलोनी थाने जा रहा था। वह वर्दी में नहीं था। उसने बीआरटी पर मोटरसाइकिल पर दो युवक देखे। मोटरसाइकिल पर आगे की नंबर प्लेट नहीं थी और पीछे की नंबर प्लेट मुड़ी हुई थी। इससे सिपाही नवीन को संदेह हुआ।
नवीन ने उनको रूकने का इशारा किया तो बदमाशों ने मोटरसाइकिल की स्पीड बढ़ा दी। पीछे बैठे बदमाश ने सिपाही को पीछा नहीं करने के लिए धमकाया भी था। मगर सिपाही पीछा करता रहा। नवीन ने इलाके में पेट्रोलिंग कर रहे सिपाही मनीष को मोटरसाइकिल सवारों के बारे में सूचना देकर सर्तक कर दिया। नवीन ने पीछा कर एंड्रयूज गंज के पास दोनों बदमाशों को रोक लिया। नवीन ने पीछे बैठे बदमाश को करीब-करीब पकड़ लिया। तभी बदमाश ने कट्टा निकालकर नवीन की जांघ में गोली मार दी। 
नवीन को गोली मारने के बाद बदमाश भागने लगे। तभी आगे से सिपाही मनीष आ गया और उसने बहादुरी दिखाते हुए बदमाशों की मोटरसाइकिल में टक्कर मार दी। इससे दोनों बदमाश नीचे गिर पड़े। मनीष को पता था कि बदमाशों के पास हथियार हैं। नवीन व मनीष ने बहादुरी का परिचय देते हुए दोनों बदमाशों को दबोच लिया।
सिपाही नवीन को एम्स के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। उसके जांघ का ऑपरेशन कर गोली निकाल दी गई है और उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। बदमाशों की पहचान धर्मेन्द व नवदीप के रूप में हुई है। इनके पास से एक कट्टा बरामद किया गया है। 

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर