ठक गैंग के दो मेंबरों को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार


नई दिल्ली। सरेराह लोगों का ध्यान बंटाकर कार से मोबाइल समेत कई कीमती सामान उड़ाने वाले ठक-ठक गैंग के वॉन्टेड दो मेंबरों को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया है। इनकी शिनाख्त यूपी के मेरठ के मोहम्मद अयाज उर्फ अज्जू और नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के ब्रह्मपुरी के मोहम्मद इमरान के तौर पर हुई। इनसे 10 मोबाइल और वारदातों में इस्तेमाल होने वाला एक ऑटो भी बरामद हुआ है। पुलिस ने इनकी गिरफ्तारी से दस केस सॉल्व करने का दावा किया है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों ने अब तक 100 से ज्यादा वारदातों को अंजाम देना कबूला है। अडिशनल (क्राइम) शिबेश सिंह के मुताबिक, सेंट्रल दिल्ली के रंजीत नगर थाना इलाके में 5 मार्च को मोती नगर के रहने वाले रश्मि रंजन ने मुकदमा दर्ज कराया था। उन्होंने पुलिस को बताया कि वह लक्ष्मी नगर से अपनी फैमिली के साथ कार से लौट रहे थे तो मेट्रो पिलर नंबर-198 के पास दो लड़कों ने उनकी कार का शीशा खटखटाया। शीशा नीचे किया तो एक आरोपी डैश बोर्ड पर रखा उनका महंगा मोबाइल लेकर भाग गया। उन्होंने पीछा कर एक को दबोच लिया, जिससे मोबाइल बरामद हो गया। 
इसकी शिनाख्त मेरठ के श्याम नगर के जब्बार के तौर पर हुई। पूछताछ में इसने बताता कि वह ठक-ठक गैंग का मेंबर है। अयाज और इमरान उसके साथी हैं। क्राइम ब्रांच के एसीपी पंकज सिंह की देखरेख में बनी इंस्पेक्टर विकास राणा की टीम ने इस तरह की वारदातों की एनालिसिस की। एक सूचना के आधार पर दोनों बदमाशों को दरियागंज के गोलचा सिनेमा के करीब से दबोच लिया। अयाज मेरठ में पैदा हुआ और वहां वीकली मार्केट में कपड़े बेचा करता था। इमरान पहले मजदूरी करता था, फिर ऑटो चलाने लगा। दोनों जल्दी पैसा कमाने के चक्कर में ऐसी वारदातों को अंजाम देने लगे थे।