गरीब बच्चों के लिए दिल्ली के आरके पुरम थाने में चलाई जा रही हाइटेक लाइब्रेरी


दिल्ली ब्यूरो। दक्षिणी दिल्ली के आरके पुरम थाने में गरीब और पढ़ाई छोड़ देने वाले बच्चों के लिए हाइटेक लाइब्रेरी का संचालन किया जा रहा है। लाइब्रेरी का संचालन थाना प्रभारी राजेश कुमार करते हैं और बच्चों की पढ़ाई के क्षेत्र में काम करने वाले गैर सरकारी संगठन शिखर भी उनकी सहायता करता है। जनवरी में इस लाइब्रेरी का संचालन शुरू किया गया था। यहां गरीब बच्चे आकर पढ़ाई करते हैं। आरके पुरम के आसपास के गरीब इलाकों से बच्चे थाने आते हैं और अपनी पसंद के हिसाब से थाने की लाइब्रेरी में बैठकर किताबें पढ़ते हैं। बच्चों को किताब पढ़ने या कुछ समझाने में पुलिस अफसर भी मदद करते हैं। इस लाइब्रेरी को लेकर गोवा में एशिया पैसिफिक चैंबर आफ कामर्स की तरफ से इनोवेशन एजुकेशन की कैटेगरी में एप्रिसिएशन सर्टिफिकेट से पुरस्कृत किया गया है।
राजेश कुमार ने बताया कि लाइब्रेरी में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के साथ-साथ स्कूल छोड़ चुके बच्चों को दोबारा पढ़ाई के माहौल में लाना है। इस दौरान बच्चों की स्कूल की फीस की व्यवस्था भी की जाती है। लाइब्रेरी में आनलाइन पढ़ाई प्रोजेक्टर और काउंसिलिंग के जरिये बच्चों को पढ़ाई कराई जाती है। लाइब्रेरी में 4300 से अधिक किताबें हैं। इनमें एनसीईआरटी के पाठ्यक्रम और तैयारियों से संबंधित मैग्जीन शामिल हैं।
इस लाइब्रेरी में पुलिस द्वारा पढ़ने के लिए अनुकूल वातावरण, करियर काउंसलिंग के साथ-साथ पुलिस की कार्यप्रणाली के बारे में भी बुनियादी प्रशिक्षण दिया जाता है। बच्चों को रोजगारपरक शिक्षा के लिए विशेषज्ञों द्वारा काउंसिलिंग भी कराई जाती है। स्मार्ट क्लास की सुविधा वाली इस लाइब्रेरी में 100 छात्रों के बैठने की सुविधा है और रोजमर्रा की जानकारी के लिए दिल्ली से प्रकाशित अखबार भी मौजूद रहते हैं। थानाध्यक्ष राजेश कुमार के इस नेक कार्य की लोग हर जगह जमकर तारीफ हो रही है।