इन्द्रापुरम पुलिस ने डिलीवरी करते समय सामान का फेर-बदल कर धोखाधडी करने वाले सरगना समेत सात को किया गिरफ्तार


सूर्य प्रकाश,(गाजियाबाद)। इंदिरापुरम थाना पुलिस ने आनलाइन शापिग साइटों से भेजे जाने वाले मोबाइल के बदले साबुन डिलीवरी करने वाले ठग गिरोह का राजफाश किया। पुलिस ने मास्टर माइंड सहित सात आरोपितों को दबोचा है। आरोपित चलती गाड़ी में ही पैकेट से मोबाइल निकालकर उसके स्थान पर साबुन रख देते थे। उनके कब्जे से 11 मोबाइल भी बरामद हुए हैं।
नंदग्राम में रहने वाले रूद्र प्रताप सिंह अभिरा मोबाइल टेक्नोलाजी प्राइवेज लिमेटेड के नाम से आनलाइन शापिग साइटों के साथ मिलकर मोबाइल बेचते हैं। उनका कार्यालय वसुंधरा सेक्टर एक में है। उन्होंने पांच जनवरी से नौ फरवरी के बीच करीब एक हजार मोबाइल पैक कर एक शापिग साइट को डिलीवरी करने के लिए भेजे। 33 मोबाइल के स्थान पर ग्राहकों को साबुन मिला। उन्होंने अपने कार्यालय की सीसीटीवी कैमरे की फुटेज जांची, तो पैकेट में मोबाइल पैक हुए थे। उन्होंने शापिग साइट के डिलीवरी ब्वाय पर मोबाइल के स्थान पर साबुन रखने की पूरी संभावना जताई। रविवार को इसकी इंदिरापुरम थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने जांच शुरू की। कुछ डिलीवरी ब्वाय पुलिस की रडार पर आए। पुलिस ने मंगलवार को एलिवेटेड रोड के नीचे वसुंधरा सेक्टर-15 से सात आरोपितों को दबोच लिया।

सुपरवाइजर, चालक और गाड़ी मालिक भी है शामिल : पुलिस क्षेत्राधिकारी इंदिरापुरम अंशु जैन ने बताया कि आरोपितों की पहचान शिवम शर्मा उर्फ चुटिया निवासी मधुवन बापूधाम, शिवम निवासी वैशाली सेक्टर-तीन, नागेंद्र निवासी राजनगर एक्सटेंशन, करन निवासी महाराजपुर, अमन उर्फ भोला निवासी अर्थला, विजय चौहान निवासी करहैड़ा और अशोक कुमार निवासी नंदग्राम के रूप में हुई। पूछताछ में पता चला कि बीएससी पास डिलीवरी ब्वाय शिवम गिरोह का मास्टर माइंड है। उसने ही करीब चार माह पहले सुपरवाइजर विजय चौहान और चालक अमन के साथ मिलकर ठगी की योजना बनाई। उसमें गाड़ी (मिनी टेंपो) मालिक अशोक कुमार और 12वीं पास अन्य तीनों डिलीवरी ब्वाय शिवम, नागेंद्र और करन को गिरोह में शामिल किया। सभी डिलीवरी के लिए पैकेट लेकर निकलते थे। उसके बाद रास्ते में गाड़ी में सवार हो जाते थे। गाड़ी चलती रहती थी। अंदर पैकेट से मोबाइल निकालकर उसके वजन का साबुन रखकर पैकेट को दोबारा पैक कर देते थे। उसे ग्राहक को डिलीवर कर दे देते थे। ग्राहक को जब मोबाइल के बदले साबुन मिलता था, तो वह आनलाइन शापिग साइट में शिकायत करते थे। डिलीवरी ब्वाय खुद का पल्ला झाड़ लेते थे।
सस्ते दामों में बेचते थे मोबाइल : इंदिरापुरम थाना प्रभारी निरीक्षक संजीव शर्मा ने बताया कि आरोपितों ने पूछताछ में बताया कि उन्होंने फर्जी बिल बुक तैयार की थी। पैकेट से निकाले गए मोबाइल को सस्ते दामों में बेचते थे। ग्राहकों को बिल काटकर दे देते थे। इससे ग्राहकों को शक नहीं होता था। उन्होंने बताया कि आरोपितों के पास से 11 मोबाइल, फर्जी बिल बुक, पैकिग का सामान, साबुन, कटर बरामद हुआ है। उनका आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है।