मुरादाबाद में पत्रकारों पर हमले के मामले में अखिलेश यादव और उनके समर्थकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके 20 से अधिक समर्थकों के खिलाफ पत्रकारों की पिटाई के मामले में शुक्रवार को आधी रात के बाद प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस ने इसकी जानकारी दी। पुलिस में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि 11 मार्च की शाम को मुरादाबाद जिले के पाकबड़ा थाना क्षेत्र में स्थित एक होटल में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की प्रेस कांफ्रेंस चल रही थी। 
शिकायतकर्ता का आरोप है कि प्रेस कांफ्रेंस के बाद लॉबी में अखिलेश यादव से कुछ पत्रकारों ने व्यक्तिगत सवाल पूछ दिये जिससे वह छटपटा गये और उन्होंने अपने गार्डों और साथियों को पत्रकारों पर हमला करने के लिए उकसा दिया। शिकायत में कहा गया है कि वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों और 20 से अधिक उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पत्रकारों को बुरी तरह पीटकर घायल कर दिया जिसमें कई पत्रकारों को गंभीर चोटें आई और उनका अस्पतालों में इलाज चल रहा है। 
पाकबड़ा थाने में शुक्रवार को अखिलेश यादव के खिलाफ तहरीर दी गई जिसके बाद शनिवार को पाकबड़ा पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 147 (उपद्रव का दोषी जिसमें दो वर्ष कारावास की सजा का प्रावधान)342 (किसी को बंधक बनाना जिसमें एक वर्ष कारावास की सजा का प्रावधान) और 323 (जानबूझकर चोट पहुंचाना जिसमें एक वर्ष कारावास की सजा का प्रावधान) के तहत प्राथमिकी दर्ज की है। 
रामपुर में शुक्रवार को अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था कि मुरादाबाद में सुनियोजित षडयंत्र किया गया था और पहले लिफ्ट बंद कर दी गई ताकि हम लोग निकल न सकें। उल्लेखनीय है कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव 11 मार्च को मुरादाबाद के दौरे पर गये थे जहां उनकी पत्रकार वार्ता के बाद पत्रकारों से मारपीट का आरोप लगा है। इस मामले में मुरादाबाद के आयुक्‍त आंजनेय कुमार सिंह ने पुलिस को जांच के आदेश दिये थे। इस मामले को लेकर उत्तर प्रदेश के कई जिलों में पत्रकारों ने अपना आक्रोश प्रकट किया था।