इराक में बिकने से बची नेपाल की बेटियां, भारतीय सीमा पर सशस्त्र सीमा बल जवानों की कार्रवाई के बाद बड़ा खुलासा


सीतामढ़ी। भारत-नेपाल सीमा पर कार्रवाई के दौरान सशस्त्र सीमा बल के जवानों की कार्रवाई के बाद एक बड़ा खुलासा हुआ है। भारत में सक्रिय एजेंट नेपाल की भोली-भाली लड़कियों को इराक में बेचने का रैकेट चला रहे हैं।
सीतामढ़ी के पास इंडो-नेपाल बॉर्डर पर सशस्त्र बल के जवानों की मुस्तैदी से एक लड़की समेत चार महिलाएं तस्करों के चंगुल में फंसने से बच गयीं। भारतीय एजेंट उन सभी को बहला-फुसलाकर नेपाल से भारत के रास्ते इराक ले जाने की तैयारी में था। बताया जा रहा है कि नेपाल से विदेश जाने पर रोक लगने के कारण एजेंट सभी को भारत के रास्ते पैदल बॉर्डर पार करा रहा था। तैयारी यहां तक थी कि इन लड़कियों को भारत के किसी एयरपोर्ट से इराक भेज दिया जाए। लेकिन इसी बीच गश्त में लगे एसएसबी के जवानों को देखकर एजेंट रास्ते से ही फरार हो गया और चारों लड़कियां बचा ली गयींं।
लड़कियों ने बताई पूरी कहानी
एसएसबी को लड़कियों ने बताया कि वो सभी एक भारतीय एजेंट के संपर्क में थीं। एजेंट उनको इराक में अच्छी नौकरी दिलाने के नाम पर ले जा रहा था। लेकिन एजेंट के मौके से फरार होने के बाद साफ हो गया कि नौकरी के नाम पर लड़कियों को इराक में बेचने की तैयारी थी।
बचाई गई नेपाली लड़कियों के घरवालों को की गई खबर
एसएसबी ने सभी लड़कियों को सोनबरसा थाने के हवाले कर दिया है। सोनबरसा थाना पुलिस के मुताबिक लड़कियों के परिजनों और नेपाल पुलिस को सूचना दी गई है। ये खबर मिलने के बाद भारत-नेपाल सीमा स्थित हनुमान चौक पर नेपाल के सरलाही जिला से मलंगवा गोरखकाली पुलिस आई जिसके बाद सभी लड़कियों को उनके हवाले कर दिया है।