फरीदाबाद ऑनर किलिंग: हत्या के बाद खुद को ड्यूटी पर दिखाना चाहता था एसआई सोहनपाल


फरीदाबाद। बल्लभगढ़ में आन के लिए लिए 27 वर्षीय बेटी की हत्या के मामले में आरोपी सब इंस्पेक्टर सोहनपाल व सिपाही शिवकुमार को पुलिस ने रिमांड के बाद रविवार को अदालत में पेश किया गया। जहां से दोनों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। बल्लभगढ़ जीआरपी चौकी में तैनात पुलिसकर्मियों का दावा है कि वारदात के समय चौकी प्रभारी सोहनपाल ने खुद को ड्यूटी पर दर्शाने की पूरी तैयारी कर रखी थी।
 पुलिस अपनी चार्जशीट व पूरे मामले की तथ्यात्मक जांच के लिए सभी से पूछताछ में जुट गई है। इधर विभाग ने दोनों को निलंबित कर दिया है। रिमांड के दौरान पुलिस ने शव को ले जाने में इस्तेमाल की गई आरोपियों से कार, युवती का मोबाइल और गांव सहराला से कोमल की अस्थियां बरामद कर ली हैं। उनकी फॉरेंसिक व डीएनए जांच की जाएगी। बल्लभगढ़ जीआरपी चौकी में तैनात पुलिस कर्मियों के मुताबिक सब इंस्पेक्टर सोहनपाल ने खुद को चौकी में दिखाने के लिए अपना मोबाइल चौकी में ही छोड़ दिया था।
 17 मार्च की रात करीब साढ़े दस बजे वह चौकी में आया था। यहां सबइंपेक्टर विश्वास कुमार व एएसआई बिजेंद्र के साथ एक अन्य पुलिस कर्मी रात ग्यारह बजकर 18 मिनट पर आगरा की तरफ जा रही दक्षिण एक्सप्रेस में सवार होकर चेकिंग के लिए गए। वहां से तीनों सुबह सात बजे वापिस आए थे।
 सूत्रों के मुताबिक चौकी में रखा जाने वाला रोजनामचे बल्लभगढ़ चौकी से ओल्ड फ़रीदाबाद रेलवे स्टेशन थाने में लाया गया और उसमें कुछ छेड़छाड़ की गई। पुलिस की जांच में सामने आया है कि पड़ोस के लोगों के मुताबिक सुबह सात बजे परिवार के लोग कोमल के शव को लेकर सहराला के लिए निकल गए थे। उस समय सोहनपाल भी मौजूद था। गौरतलब है कि सेक्टर-2 निवासी कोमल ने आठ फरवरी को परिवार की मर्जी के खिलाफ जाकर मुकेश कालोनी निवासी सागर यादव से प्रेम विवाह कर लिया था। कोमल के इस विवाह से उसके परिजन खुश नही थे। कोमल के पिता सोहनपाल जीआरपी चौकी प्रभारी हैं। जबकि चाचा शिवकुमार सिपाही है। थाना शहर पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इधर दोनों को विभाग ने सस्पेंड कर दिया है।