चेकिंग के दौरान पुलिसकर्मी को गोली मारने वाले एनकाउंटर में पकड़े गए बदमाश


  • वारदात के आसपास लगे दो दर्जन से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली
  • जब इंस्पेक्टर ने बदमाश को पकड़ने की कोशिश की, तो उसने गोली चला दी
  • दोनों बदमाश 25 फरवरी को भलस्वा डेयरी पुलिसकर्मी को गोली मारने के आरोपी
राजीव गौड़,(दिल्ली ब्यूरो)। राजधानी दिल्ली के रोहिणी सेक्टर-30 इलाके में दिल्ली पुलिस से मुठभेड़ के बाद दो बदमाशों को पकड़ लिया गया। बदमाशों की फायरिंग में पुलिसकर्मी बुलेट प्रूफ जैकेट पहने होने की वजह से बच गए। पुलिस की गोली से दोनों बदमाश जख्मी हो गए। उनके पैर में गोली लगी है। पकड़े गए आरेापियों में बख्तावरपुर निवासी 22 वर्षीय योगेश वर्मा और उसका साथी है, जोकि नाबालिग है।
दोनों बदमाश 25 फरवरी को भलस्वा डेयरी इलाके में चेकिंग के दौरान पुलिसकर्मी को गोली मारने के आरोपी हैं। दोनों के कब्जे से दो पिस्टल, चार कारतूस और दो कारतूस के खोल बरामद हुए हैं। पुलिस ने वारदात में इस्तेमाल बाइक को जब्त कर लिया था। बाइक डेढ़ हफ्ते पहले ही हरियाणा के कुंडली इलाके से चोरी की गई थी। दोनों के पकड़े जाने के बाद कई वारदातों का खुलासा हुआ है। आरोपी योगेश पर 8 गाड़ी चोरी के केस दर्ज हैं, जबकि नाबालिग नरेला औद्योगिक क्षेत्र और भलस्वा डेयरी फायरिंग में शामिल है। उसने होलंबी खुर्द इलाके में एक दुकान पर भी गोली चला दी थी। वारदात में दुकानदार के गोली हाथ में लगी थी।
कॉन्स्टेबल को बाइक सवार बदमाशों ने पेट में मारी थी गोली
डीसीपी राजीव रंजन के मुताबिक, गुरुवार शाम पुलिस पिकेट भलस्वा डेयरी पर तैनात कॉन्स्टेबल संदीप कुमार को बाइक सवार बदमाशों ने पेट में गोली मारी थी। इसके बाद एएटीएस और स्पेशल स्टाफ को आरोपियों को पकड़ने का जिम्मा सौंपा गया। स्पेशल स्टाफ इंस्पेक्टर राम स्वरूप मीणा की देखरेख में पुलिस टीम ने बदमाशों की बाइक के नंबर और उसकी चेसिस नंबर से बाइक के असली मालिक के बारे में पता किया। बाइक कुंडली इलाके से चोरी हुई थी। वारदात के आसपास लगे दो दर्जन से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली। आरोपी कई सीसीटीवी कैमरों में दिखाई दिए। उनके फोटो जिले के वॉट्सऐप ग्रुप पर अपलोड किए गए। फोटो दिखाकर बदमाशों की पहचान करने की कोशिश की गई।
पुलिस टीम पर किया हमला
इस बीच सब इंस्पेक्टर संदीप कुमार को वारदात में शामिल बदमाशों के सेक्टर-30 रोहिणी इलाके में आने की जानकारी मिली। पुलिस टीम ने मौके की घेराबंदी की। टीम ने एक बाइक को रुकने का इशारा किया। बाइक स्लिप हो गई। जब इंस्पेक्टर संदीप ने बदमाश को पकड़ने की कोशिश की, तो उसने गोली चला दी। गोली जैकेट पर लगी। जब पुलिस टीम दोनों को पकड़ने के लिए आगे बढ़ी, तो नाबालिग ने कॉन्स्टेबल रविकांत पर गोली चला दी। वह बच गए। पुलिस टीम ने भी आत्मरक्षा में दोनों पर गोली चलाईं। एक-एक गोली योगेश और नाबालिग के पैर में लगी। पुलिस टीम ने दोनों को भागने से पहले पकड़ लिया। दोनों को बाबा साहेब आंबेडकर अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई।