विदेश मंत्रालय ने फर्जी पासपोर्ट वेबसाइट्स मामले में 3 लोगों के खिलाफ कराया केस


नई दिल्ली। ताजा घटनाक्रम में अब विदेश मंत्रालय ने स्पेशल सेल में आईटी एक्ट और अन्य धाराओं के तहत पुणे के तीन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। तीनों नामजद आरोपियों ने विदेश मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट https://www.passportindia.gov.in/ से मिलते जुलते नाम से कई वेबसाइट रजिस्टर करवाई हुई हैं। (www.passportonlineindia.org, www.passportonlineindia.com), इन वेबसाइट के द्वारा ये लोग पासपोर्ट बनवाने के नाम पर मोटी रकम वसूल रहे हैं। साथ ही गैरकानूनी रूप से लोगों का महत्वपूर्ण निजी डेटा और कागजात भी इकट्ठा कर रहे हैं। विदेश मंत्रालय की शिकायत के बाद दिल्ली पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस अफसर के मुताबिक, इन वेबसाइट्स के द्वारा जालसाजी की ढेरों शिकायतें विदेश मंत्रालय और पासपोर्ट सेवा केंद्र को मिल रही थीं। अपनी पड़ताल में पाया गया कि इन वेबसाइट्स का रजिस्ट्रेशन बहुत ही चालाकी से करवाया गया है, एक वेबसाइट पर क्लिक करने पर दूसरा डोमेन खुलता है। 
फिर वहां से ये किसी और डोमेन पर डाइवर्ट हो जाता है। वेबसाइट पर बिल्कुल असली जैसा दिखने वाला फॉर्म है, जिसे भरने के बाद पेमेंट करने का ऑप्शन आता है। जहां 18 वर्ष या अधिक उम्र के नागरिकों के लिए आधिकारिक पासपोर्ट शुल्क 1500 रूपए है, उसके लिए ये फर्जी वेबसाइट 3000 या उससे भी अधिक चार्ज करते हैं और पैसे देने के बाद भी कोई गारंटी नहीं की आपका पासपोर्ट अप्लाई होगा। हालांकि विदेश मंत्रालय ने ऐसी कई वेबसाइट्स को लेकर अपने पासपोर्ट पोर्टल पर एडवाइज़री जारी की हुई है, लेकिन उसके बावजूद भी ये वेबसाइट अभी भी इस तरह के फर्ज़ीवाड़े में लिप्त हैं। आवेदन के नाम पर मोटी रकम वसूलने और लोगों को गुमराह करने का इनका धंधा जारी है। इनमें से किसी भी फर्जी वेबसाइट पर उनका ऑफिस एड्रेस नहीं है, कहीं सिर्फ ईमेल आईडी और कहीं एक मोबाइल नंबर है।