गाजियाबाद पुलिस ने ऑक्सिजन की कालाबाजारी करने वाले एक शातिर को किया गिरफ्तार, 638 छोटे-बड़े खाली सिलेंडर बरामद


  • गाजियाबाद की थाना लिंक रोड पुलिस के हाथ लगी बड़ी कामयाबी
  • पुलिस ने कालाबाजारी करने वाले एक शातिर को गिरफ्तार किया, मुख्य आरोपी फरार
  • पुलिस ने आरोपी के कब्जे से 638 छोटे-बड़े सिलेंडर खाली, ऑक्सिजन सिलेंडर बरामद किये
गाजियाबाद ब्यूरो। यूपी के गाजियाबाद की थाना लिंक रोड पुलिस को एक बड़ी कामयाबी उस वक्त हाथ लगी, जब मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने कालाबाजारी करने वाले एक शातिर को गिरफ्तार किया। पुलिस ने उसके कब्जे से कालाबाजारी के लिए जमा किए गए 638 छोटे-बड़े सिलेंडर खाली, ऑक्सिजन सिलेंडर बरामद किये हैं। इस पूरे मामले में लिप्त मुख्य आरोपी अभी पुलिस की गिरफ्तत से बाहर है।
इस पूरे मामले का खुलासा करते हुए एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल ने बताया कि कोविड-19 संक्रमण फैलने के बाद अचानक से ऑक्सिजन की मांग बढ़ गई। इस दौरान कुछ लोगों ने ऑक्सिजन की कालाबाजारी शुरू कर दी है। इस पर अंकुश लगाए जाने के मकसद से एसएसपी अमित पाठक के निर्देश पर एक विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

638 छोटे-बड़े खाली ऑक्सिजन सिलेंडर भी बरामद
इसी कड़ी में पुलिस को सूचना मिली कि थाना लिंक रोड क्षेत्र अंतर्गत साइट 4, बी-30 औद्योगिक क्षेत्र में एक फैक्ट्री है। जहां पर भारी मात्रा में कालाबाजारी के लिए छोटे-बड़े ऑक्सिजन सिलेंडर जमा किए जा रहे हैं और यहीं से ऑक्सिजन की कालाबाजारी की जाती है। सूचना के आधार पर पुलिस ने छापेमारी की, तो मौके पर समीर उर्फ सलीम पुत्र लईक अहमद निवासी रोहताश नगर शाहदरा दिल्ली मौजूद मिला और फैक्ट्री में 638 छोटे-बड़े खाली ऑक्सिजन सिलेंडर भी बरामद हुए।
दो से तीन गुना मूल्य पर बेचे जाते थे सिलेंडर
पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए समीर उर्फ सलीम ने कहा, वह जय गोपाल इंटरप्राइजेज का कर्मचारी है और अपने मालिक जय गोपाल मेहता के कहने पर छोटा सिलेंडर 10000 रुपये में और बड़ा सिलेंडर 30000 रुपये में बेचता था। उन्होंने बताया कि अभी मुख्य आरोपी जय गोपाल मेहता फरार है। उसकी तलाश जारी है। जल्द ही उसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा और दोनों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।