साईं बाबा की मूर्ति हटाने का आरोपी गिरफ्तार, शाहपुर जाट गांव में तनाव, सुरक्षा बल तैनात


दिल्ली ब्यूरो। दक्षिण जिला पुलिस ने शाहपुर जाट गांव में पुराने शिव मंदिर से शिरड़ी वाले साईं बाबा की मूर्ति हटाने के मामले में पद्म पवार नाम के व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। गांव के मंदिर का वीडियो वायरल होने के बाद हौजखास थाना पुलिस ने धार्मिक भावनाएं आहत करने का मामला दर्ज किया था। मंदिर समिति के पदाधिकारियों का कहना है कि मूर्ति खंडित हो गई थी। इस कारण उसे हटाया गया है। यह समिति के पदाधिकारियों का सामूहिक फैसला था। हालांकि वायरल वीडियो पर पदाधिकारियों ने कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया।
दक्षिण जिला पुलिस अधिकारियों के अनुसार, शाहपुर जाट गांव के शिव मंदिर के वायरल वीडियो में कहा जा रहा है कि शिव मंदिर में साईं की मूर्ति नहीं होनी चाहिए। वीडियो में पद्म पवार मूर्ति को तोड़ते हुए और शिरड़ी साईं के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते दिखाई दे रहा है।
मंदिर समिति के प्रवक्ता भरत पवार ने मीडिया को बताया कि शाहपुर जाट गांव में शिव मंदिर 638 वर्ष पुराना है। वर्ष 2009 में पुनर्निर्माण के दौरान पद्म पवार व उसके परिवार ने शिरड़ी साईं की मूर्ति लगवाई थी। शिव परिवार की मूर्ति गांव के ही राम किशन और राम दरबार दीपक के परिजनों ने लगवाया था। मंदिर में अन्य मूर्तियां समिति की ओर से लगवाई गई थीं।
मंदिर के पुजारी ने बताया कि साईं की मूर्ति का पैर खंडित हो गया था। इसी कारण उसे हटवाया जा रहा था। वीडियो वायरल होने के बाद शिरड़ी साईं भक्त नाम से कुछ लोगों ने हौजखास थाना पुलिस से रविवार को शिकायत की थी। पुलिस की कार्रवाई के बाद इलाके में तनाव है। गांव में सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया है।