आखिर क्यों अब घर पर भी मास्क पहनना हो गया है जरूरी? यहां जानिए कारण


 निति आयोग के सदस्य डॉ। वीके पॉल ने सोमवार को कहा कि अब घर के बाहर मास्क पहनना काफी नहीं है और इसे घर पर भी पहनने का समय आ गया है। बता दें कि निति आयोग द्वारा दी गई यह सलाह ऐसे समय पर आई है जब देश महामारी का सबसे बुरा दौर अनुभव कर रहा है। कोरोना के मामलों में उछाल की दूसरी लहर के कारण देश में सबसे अधिक मामले सामने आए हैं। तेजी से बढ़ते मामलों के बीच ऑक्सीजन की कमी के एक गंभीर संकट ने चीजों को बहुत खराब कर दिया है। इसी बीच डॉ पॉल ने नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा,  “मैं कहूंगा कि अब समय आ गया है कि हम अपने घरों के अंदर भी मास्क पहनना शुरू कर दें। हम इसे घरों के बाहर पहनने के बारे में बात करते थे, लेकिन जिस तरह से संक्रमण फैल गया है, यह बेहतर होगा कि हम अपने घरों के अंदर मास्क पहनें अगर हम किसी के साथ बैठे हैं,”।
क्यों है मास्क घर में पहनने की जरूरत?
कोविड -19 मुख्य रूप से सांस की Droplet के माध्यम से व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है, जो किसी के खांसने, छींकने, बातचीत करने, चिल्लाने या गाने पर हवा में भी फैल रहा हैं। बता दें कि यह Droplets यानि की सांस की बूंदें तब आसपास के लोगों के मुंह या नाक में उतर सकती हैं, या सांस ली जा सकती हैं। इसके अलावा, यह लक्षण नहीं दिखाती है। वहीं जो कोरोना से संक्रमित लोग घर पर संक्रमण को तेजी से फैला सकते हैं। इसी को देखते हुए  डॉ। पॉल ने जोर देकर कहा कि जब भी कोई व्यक्ति संक्रमित से बात कर हे हों, तब भी वे संक्रमण फैला सकते हैं। जिसको देखते हुए मास्क घर में भी पहनना काफी जरूरी है। इसके साथ ही कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए अधिकत्तर लोग अभी अपने घरों में ही रह रहे है जिसको देखते हुए मास्क घरों में भी पहनना काफी महत्वपूर्ण है।  
डॉ पॉल ने कहा,  "अगर कोई COVID-19 पॉजिटिव व्यक्ति है, तो उस व्यक्ति को मास्क पहनना चाहिए और घर के अन्य लोगों को भी मास्क पहनना चाहिए और संक्रमित व्यक्ति को एक अलग कमरे में रहना चाहिए, उन्होंने कहा कि अगर घर में आइसोलेशन के लिए सुविधाओं की दिक्कत है, तो वे आइसोलेशन केंद्रों के लिए जा सकते हैं"। डॉ। पॉल ने आगे कहा कि लोगों को अनावश्यक रूप से अपने घरों से बाहर निकलने से भी बचना चाहिए और घर पर मेहमानों को आमंत्रित नहीं करना चाहिए। उन्होंने लोगों से अस्पतालों में भर्ती न होने का आग्रह किया जब तक कि उन्हें वास्तव में इसकी आवश्यकता न हो। उन्होंने कहा कि जरूरतमंद लोगों के लिए अस्पताल के बेड का इस्तेमाल किया जाता है। इसके साथ ही उन्होंने आबादी में तेजी लाने के महत्व पर भी बल दिया।
डॉ। पॉल ने कहा कि, "हम उभरती स्थिति के सामने COVID-19 टीकाकरण में गिरावट या मंदी की गति को कम नहीं होने दे सकते। वास्तव में, इसे बढ़ाया जाना चाहिए और उस इरादे के साथ, भारत सरकार एक  टीकाकरण नीति लानी होगी। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने एक इन्फोग्राफिक शेयर किया है जिसमें बताया गया है कि मास्क पहनने और सामाजिक दूरी बनाए रखने से COVID संक्रमण के जोखिम को कम किया जा सकता है। इस ग्राफ से पता चला कि संक्रमित और गैर-संक्रमित दोनों व्यक्ति मास्क पहने हुए हैं और ट्रांसमिशन एक दूसरे से कम से कम 6 फीट की दूरी पर है। इसी तरह, जोखिम 90 प्रतिशत से अधिक है, जब दोनों मास्क नहीं पहनते हैं और सामाजिक दूरी बनाए नहीं रखते हैं। बता दें कि भारत का COVID-19 मामलों की कुल संख्या 1,73,13,163 हो गई है, जबकि सक्रिय मामलों ने 28 लाख का आंकड़ा पार कर लिया है।