रेमडेसिविर की कालाबाजारी में एम्स के गेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट समेत तीन गिरफ्तार


प्रेम प्रकाश त्रिपाठी,(गाजियाबाद)। कोरोना के गंभीर मरीजों को दी जाने वाली इंजेक्शन रेमडेसिविर व ऑक्टेमरा की कालाबाजारी के आरोप में गाजियाबाद क्राइम ब्रांच और नगर कोतवाली पुलिस ने दिल्ली एम्स के गेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. मोहम्मद अल्तमश समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से 70 रेमडेसिविर व 02 ऑक्टेमरा इंजेक्शन के अलावा 36 लाख 10 हजार रुपये, एक स्कोडा कार और दो बाइक बरामद हुई हैं। पुलिस के मुताबिक आरोपी 40 से 50 हजार रुपये में रेमडेसिविर तथा डेढ़ लाख रुपये में ऑक्टेमरा इंजेक्शन जरूरतमंदों को बेच रहे थे। आरोपी इंजेक्शन कहां से और किसके जरिये लाते थे, इसकी जांच की जा रही है।

एसपी सिटी निपुण अग्रवाल ने बताया कि निजामुद्दीन दिल्ली निवासी डॉ. मोहम्मद अल्तमश देश का नामी न्यूरोलॉजिस्ट है, जो एम्स को गेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट के रूप में सेवाएं देता है। इसके अलावा उसका दिल्ली के निजामुद्दीन एरिया में खुद का अस्पताल भी है। कोरोना में लाभ कमाने के लालच में डॉ. अल्तमश ने अपने साथियों के साथ मिलकर जीवन रक्षक इंजेक्शनों की कालाबाजारी का गोरखधंधा शुरू कर दिया था। पकड़े गए आरोपियों में अल्तमश के अलावा नगर कोतवाली के कैला भट्ठा निवासी कुमैल अकरम व इंदुराव बाड़ा दिल्ली निवासी जाजिब अली शामिल हैं।
हयात कॉरपोरेट सेक्टर का सीईओ है डॉ. अल्तमस
पुलिस के मुताबिक डॉ. मोहम्मद अल्तमश हयात कॉरपोरेट सेक्टर इंश्योरेंस एंड हेल्थ का सीइओ भी है। जबकि कुमैल अकरम कपड़े का कारोबार करता है और जाजिब अली फेस मास्क का सप्लायर है। कोरोना की दूसरी लहर शुरू होते ही आरोपियों ने जीवन रक्षक इंजेक्शन की कालाबाजारी शुरू कर दी थी।
फिल्मी सितारों में पुलिस-प्रशासनिक अफसरों के इलाज का दावा
पुलिस पूछताछ में डॉ. मोहम्मद अल्तमश ने दावा किया है कि वह कोरोना काल में बॉलीवुड के तमाम फिल्मी सितारों के अलावा कई आईएएस और आईपीएस अफसरों का इलाज कर चुका है। वह 50 से अधिक लोगों को इंजेक्शन बेच चुका है। पुलिस के मुताबिक आरोपियों से बरामद रकम एक दिन के इंजेक्शन बिक्री की है।
एम्स से जुड़े कालाबाजारी के तार
पुलिस का मानना है कि इंजेक्शनों की कालाबाजारी के तार गेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. मोहम्मद अल्तमश के जरिए एम्स से जुड़े हैं। एसपी सिटी निपुण अग्रवाल का कहना है कि इस बिंदु पर गहनता से जांच की जा रही है। जो भी इस गोरखधंधे में शामिल होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार किया जाएगा।