कोविड की दवा दिलाने का सिप्ला कंपनी का एक फर्जी नंबर वायरल, देशभर में करोड़ों की ठगी


  • सोशल मीडिया पर वायरल एक मेसेज से देशभर में ठगी
  • एक पीड़ित से मेडिसन के नाम पर 91 हजार पेमेंट ली गई
  • वायरल मोबाइल नंबर अजय अग्रवाल नाम के शख्स का है
नई दिल्ली। वॉट्सऐप, ट्विटर समेत तमाम सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स में इन दिनों अजय अग्रवाल, सिप्ला डिस्ट्रिब्यूटर का नाम और उनका मोबाइल नंबर 7604027966 वायरल है। दावा किया जा रहा है कि यह रेमेडिसिवियर इंजेक्शन बनाने वाली कंपनी का आधिकारिक डिस्ट्रिब्यूटर है। इनसे संपर्क करने पर 3 से 4 घंटे में सिप्ला कंपनी की तरफ से सीधे Remdesivir या Tocilizumab इंजेक्शन देश के किसी भी कोने में डिलिवर किया जाता है। लगभग एक ही तरह का कॉपी-पेस्ट मेसेज बहुत से वेरिफाइड अकाउंट से ट्वीट, शेयर, लाइक और फॉरवर्ड किया जा रहा है। वो भी 'फैक्ट चैक' किए बिना। पिछले पांच दिन से सोशल मीडिया में अजय अग्रवाल नाम के इस मेसेज के खिलाफ ढेरों फ्रॉड के अलर्ट मेसेज भी पोस्ट किए गए हैं।
कई लोग हुए ठगी का शिकार
मीडिया ने वायरल मेसेज की सच्चाई पता की। जो चौंकाने वाली है। इस मेसेज ने बहुतों को अब तक ठगी का शिकार बना लिया है। हमने इस नंबर पर लगातार संपर्क साधने की कोशिश की। दोपहर 1 बजे से 3 बजे तक नंबर बिजी मोड में रहा। उसके बाद आउट ऑफ कवरेज एरिया हो गया। अजय अग्रवाल के बारे दिल्ली पुलिस से पता चला कि इसके बारे में साइबर सेल समेत कई थानों में शिकायतें मिली हैं। इनमें 22 अप्रैल को कनॉट प्लेस थाने में एक पीड़ित की तरफ से कंप्लेंट दी गई है, जिसमें कहा गया है कि कोविड मेडिसन की सप्लाई के नाम पर उनसे 91 हजार की एडवांस पेमेंट लेकर ठगी हुई है। उन्होंने अपनी कंप्लेंट में आरोपी को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की है। वहीं, एक अन्य पीड़ित ने अपनी शिकायत में कहा है कि उससे 12000 रुपये ट्रांसफर करा लिए। उसके बाद वह नंबर पिक नहीं करता।
लोगों की मजबूरी का फायदा उठाकर ठगी
पुलिस का कहना है कि जांच के लिए कई टीमें काम कर रही हैं। दरअसल, दिल्ली समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में Remidesivir और Tocilizumab के लिए मारामारी हो रही है। ऐसे में सोशल मीडिया पर वायरल इस मेसेज को पढ़कर संकट में फंसे असहाय लोगों को उम्मीद की किरण नजर आने लगती है। वे लोग संपर्क करते हैं। अजय अग्रवाल नाम का यह शख्स वॉट्सऐप के जरिए एडवांस पेमेंट मांगता है। लोग सिप्ला कंपनी का आधिकारिक डिस्ट्रिब्यूटर समझकर उसके अकाउंट में रकम ट्रांसफर कर देते हें। उसके बाद इंजेक्शन की उम्मीद में तमाम पेशेंट और तीमारदार इंतजार ही करते रह जाते हैं। ऐसे सैकड़ों लोगों को ठगी का शिकार बनाया जा चुका है। पुलिस को अंदेशा है कि रेमडेसिवियर की डिलिवरी के नाम पर अब तक यह करोड़ों रुपये ठग चुका है।
सिप्ला कंपनी ने किया अलर्ट
वायरल मोबाइल नंबर अजय अग्रवाल नाम के शख्स का बताया जा रहा है। साथ में दावा किया जा रहा है कि अजय फार्मा कंपनी सिप्ला का अधिकारिक डिस्ट्रिब्यूटर है। सिप्ला कंपनी ने इस बारे में लोगों को अलर्ट किया है। कंपनी ने कहा, ‘अजय नाम के शख्स से हमारा कोई लेना देना नहीं है। कंपनी ने कई यूजर्स को टैग करते हुए लिखा है कि इस नाम के शख्स से कंपनी का कोई लेना देना नहीं। ना ही इस नाम और नंबर का कंपनी से किसी भी तरह का लिंक है।’ पुलिस ने कहा वायरल नंबर और नाम के बारे में कई थानों में शिकायतें मिली हैं। अजय के बारे में पता लगाया जा रहा है।