जिस लड़की के अपहरण में पिता-पुत्र जेल में बंद, वह बुलंदशहर में नौकरी करती मिली


  • यूपी में अलीगढ़ में लड़की के अपहरण के आरोप में बाप-बेटा जेल में
  • वही लड़की बुलंदशहर में नौकरी करती मिली, पुलिस ने किया बरामद
  • लड़की के बरामद होने के बाद उसके बयान अदालत में दर्ज कराए जाएंगे
अलीगढ़। यूपी के अलीगढ़ में बाप-बेटे जिस लड़की के अपहरण में जेल की सजा काट रहे हैं, उसको पुलिस ने 6 माह बाद बुलंदशहर से बरामद कर लिया है। बता दें कि लड़की बुलंदशहर में किराये पर कमरा लेकर रह रही थी। लड़की पढ़ाई करने के साथ एक टेलर की दुकान पर नौकरी कर थी। अब लड़की के बरामद होने के बाद उसके बयान अदालत में दर्ज कराए जाएंगे।
शक के आधार पर भेजा जेल
23 सितंबर 2020 को थाना लोधा इलाके के एक गांव से एक लड़की का अपहरण हुआ था। जिसको लेकर पीड़ित परिजन और स्थानीय ग्रामीणों ने कई बार लोधा थाने का घेराव किया गया था। ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए थाना पुलिस ने शक के आधार पर लड़की के गांव के ही रहने वाले बाप-बेटे को जेल भेज दिया था। लेकिन उसके बाद भी अपहृत लड़की का कोई सुराग नहीं लगा।
आरोपियों का पॉलीग्राफ टेस्ट कराने की थी तैयारी
काफी तलाश के बाद भी जब लड़की का पता नहीं चला तो पुलिस ने जेल में बंद दोनों पिता पुत्र सहित चार लोगों का पॉलीग्राफ टेस्ट कराने की कार्यवाही शुरू की। आरोपियों का पॉलीग्राफ टेस्ट 22 या 23 अप्रैल 2021 को किया जाना था। आरोपियों का पॉलीग्राफ टेस्ट होता, उससे पहले ही शुक्रवार की देर रात एसओ लोधा अभय शर्मा सहित पुलिस टीम ने अपहरण की गई लड़की को बुलंदशहर जिले से सकुशल बरामद कर लिया।
पुलिस के अनुसार, गायब लड़की गांव से बुलंदशहर गई और बुलंदशहर में एक टेलर की कपड़े की दुकान पर साढ़े चार हजार रुपये महीने नौकरी करने लगी और वहीं एक कमरा आठ सौ रुपये महीने में किराये पर ले लिया। लड़की वहीं रहकर कोचिंग ज्वाइन कर पढ़ाई कर रही थी।