गैंगरेप और हत्या के आरोपी ने हेड कॉन्स्टेबल की छिनी पिस्टल, मुठभेड़ में गोली लगने से घायल


  • यूपी के मेरठ में छात्रा के साथ गैंगरेप और हत्या के मुख्य आरोपी ने पुलिस कस्टडी से फरार होने का किया प्रयास
  • कोर्ट में पेशी के लिए लाए जा रहे आरोपी लाखन ने हेड कॉन्स्टेबल से पिस्टल छीन ली और पास के खेत में घुस गया
  • पुलिस को घेराबंदी करते देख पिस्टल से फायरिंग की, जवाबी कार्रवाई में पुलिस की गोली पैर में लगने से घायल
मेरठ। यूपी के मेरठ में सरधना थाना क्षेत्र के कपसाड़ गांव में दसवीं की छात्रा के साथ गैंगरेप और हत्या के मुख्य आरोपी ने शनिवार को पुलिस कस्टडी से फरार होने का प्रयास किया। कोर्ट में पेशी के लिए लाए जा रहे आरोपी लाखन ने हेड कॉन्स्टेबल से पिस्टल छीन ली और पास के खेत में घुस गया। पुलिस को घेराबंदी करते देख उसने पिस्टल से फायरिंग की। जवाबी कार्रवाई में पुलिस की गोली पैर में लगने से लाखन घायल हो गया। पुलिस उसे इलाज के लिए पास के अस्पताल ले गई। इस दौरान उसका दूसरा गिरफ्तार साथी पुलिस के कब्जे में ही रहा।
दरअसल दसवीं की छात्रा के साथ गैंगरेप और हत्या के आरोप में पुलिस ने दो आरोपियों लाखन और विकास को गिरफ्तार किया था। एसओ सरधना बृजेश कुमार, हेड कॉन्स्टेबल सितम सिंह, सुबोध कुमार, कॉन्स्टेबल विजय कुमार,दीपक भाटी, होमगार्ड दयाराम सरकारी गाड़ी से दोनों गिरफ्तार आरोपियों को कोर्ट में पेश करने ले जा रहे थे। वाहन को प्रदीप कुमार चला रहे थे।
गाड़ी की खिड़की खोली, फिर पिस्टल छीनकर भागा
मेरठ-नानू मार्ग पर एक फैक्ट्री से आगे सड़क की हालत खराब होने के कारण प्रदीप ने गाड़ी धीमी कर दी। सीओ सरधना आरपी शाही के अनुसार अचानक आरोपी लाखन ने गाड़ी की पीछे की खिड़की खोल दी और हेड कॉन्स्टेबल सितम सिंह को धक्का देकर उससे उसकी पिस्टल छीन कर गाड़ी से कूद गया।
पुलिस के अनुसार उनका वाहन रुकने से पहले ही लाखन पास के एक खेत में घुस गया। पुलिस ने पीछा करते हुए लाखन की घेराबंदी करनी शुरू कर दी।
हेड कॉन्स्टेबल पिस्टल छिन झोंक दिया फायर
पुलिस को घेराबंदी करते देख लाखन ने हेड कॉन्स्टेबल से छीनी पिस्टल से फायर कर दिया। पुलिस ने भी जवाबी फायर किया। गोली लाखन के बाएं पैर में लगी और वह घायल होकर वहीं गिर गया। इस दौरान दूसरा आरोपी विकास पुलिस के कब्जे में ही रहा। बाद में पुलिस लाखन को इलाज के लिए पास के सीएचसी ले गई। मामले में फरार चल रहे आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश दी जा रही है।
आरोप है कि शुक्रवार की शाम को कपसाड़ में ट्यूशन पढ़ने जा रही दसवीं की छात्रा का लाखन और उसके तीन साथियों ने अपहरण कर उसके साथ गैंगरेप किया था। परिजनों का कहना है कि रेप के बाद पीड़िता को जहर पिला दिया गया था, जिससे इलाज के दौरान मौत हो गई थी। परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था। दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। दो आरोपी अभी भी फरार हैं।
पुलिस कस्टडी से कैसे भाग आरोपी, उठ रहे सवाल
एक इंस्पेक्टर, दो हेड कॉन्स्टेबल, दो कॉन्स्टेबल और होमगार्ड की कस्टडी में गैंगरेप और हत्या के आरोपियों को कोर्ट ले जाया जा रहा था। बताया जा रहा है कि आरोपियों के हाथ में हथकड़ी थी।
इतनी सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद हेड कॉन्स्टेबल की पिस्टल छीन कर चलते वाहन से आरोपियों का भागना, पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़े कर रहा है। इस संबंध में अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे हैं। उनका कहना है कि मामले की जांच की जा रही है।